If you can’t play bouncer then you are not worth taking a substitute: Sunil Gavaskar on Chahal-Jadeja controversy
रवींद्र जडेजा (Twitter)

पूर्व भारतीय दिग्गज सुनील गावस्कर का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी20 में चोटिल रवींद्र जडेजा की जगह युजवेंद्र चहल का खेलना गलत नहीं था। हालांकि पूर्व कप्तान कनकनशन सबस्टीट्यूट के नियम से सहमत नहीं हैं। उनका कहना है कि अगर कोई बल्लेबाज बाउंसर नहीं खेल सकता तो उसे सबस्टीट्यूट नहीं मिलना चाहिए।

कैनबरा में खेले गए मैच में भारतीय पारी के दौरान आखिरी ओवर में गेंद जडेजा के सिर पर लगी जिसके बाद कनकशन विकल्प के तौर पर गेंदबाजी के समय चहल आए और उन्होंने 25 रन देकर तीन विकेट चटकाकर मैच जीतने में अहम भूमिका निभाई। भारतीय टीम ने 11 रन से ये मैच अपने नाम किया।

गावस्कर ने इंडिया टुडे से कहा, ‘‘सबसे पहली और सबसे अहम बात ये है कि मैच रैफरी एक पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डेविड बून है। उन्हें जडेजा के विेकल्प के तौर पर चहल के के आने से कोई परेशानी नहीं थी। नियमों के तहत जैसा खिलाड़ी चोटिल होता है, उसका विकल्प वैसा ही होना चाहिए। हालांकि चहल ऑलराउंडर नहीं है। जब एक ऑस्ट्रेलियाई मैच रैफरी को इससे कोई आपत्ति नहीं है तो मुझे नहीं लगता कि इसे मुद्दा बनाया जाना चाहिए।’’

जडेजा इंजरी विवाद में टीम इंडिया के समर्थन में उतरे सहवाग; कहा- कनकशन के लक्षण 24 घंटे बाद भी दिख सकते हैं

भारत के इस पूर्व महान बल्लेबाज ने कहा, ‘‘हालांकि मैं कनकशन विकल्प के नियम से सहमत नहीं है। मैं आपको पुराने ख्याल का लग सकता हूं। अगर आप बाउंसर नहीं खेल सकते है और गेंद आपके सिर में लगती है तो ऐसे में आप विकल्प लेने के लायक नहीं है। फिलहाल, खेल के नियमों के तहत इसकी अनुमति है और ऐसे में जडेजा की जगह चहल के खेलने में कोई समस्या नहीं थी।’’