इंग्लैंड के खिलाफ भारत को चेन्नई में खेले गए पहले टेस्ट मैच में 227 रन की शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है. भारत को सीरीज की शुरुआत से पहले अपने घर में हराना इंग्लैंड के लिए मुश्किल माना जा रहा था और ऑस्ट्रेलिया में उसे मिली धमाकेदार जीत के बाद कई जानकार इंग्लैंड के यहां 4-0 से सफाए की बात कह रहे थे. मैच के बाद विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा कि इस मैच में उनकी टीम की ‘बॉडी लैंग्वेज (भाव-भंगिमा)’ (Body Language) और जज्बा स्तरीय नहीं था, जिसके कारण पहले टेस्ट में ‘अधिक पेशेवर और निरंतर प्रदर्शन’ करने वाले इंग्लैंड के खिलाफ हार झेलनी पड़ी.

चौथी पारी में भारत के सामने जीत के लिए 420 रन के लक्ष्य था. लेकिन टीम इंडिया सिर्फ 192 रन पर ऑल आउट हो गई. सिर्फ कोहली (72) और शुभमन गिल (50) खराब होती पिच पर इंग्लैंड के आक्रमण का कुछ देर टिककर सामना कर पाए.

विराट कोहली ने मैच के बाद पुरस्कार वितरण समारोह में कहा, ‘हमारी ‘बॉडी लैंग्वेज’ और जूनुन उस स्तर का नहीं था, जैसा कि होना चाहिए, दूसरी पारी में हम अच्छी स्थिति में थे. पहली पारी के बाद के हिस्से में बल्लेबाजी करते हुए भी हम अच्छी स्थिति में थे.’

भारतीय कप्तान ने कहा, ‘हमें उन चीजों को समझना होगा जो हमने इस मैच में बेहतर तरीके से की और जो चीजें हम नहीं कर सके, एक टीम के रूप में हम हमेशा सुधार करना चाहते हैं. इंग्लैंड की टीम इस टेस्ट मैच में हमारी तुलना में अधिक पेशेवर थी.’

उन्होंने कहा, ‘एक गेंदबाजी इकाई के तौर पर तेज गेंदबाजों के अलावा रविचंद्रन अश्विन ने पहली पारी में शानदार गेंदबाजी की लेकिन हमें रन रोक कर दबाव बनाने की जरूरत थी. यह धीमा विकेट था और गेंदबाजों को मदद नहीं मिल रही थी, जिससे बल्लेबाजों के लिए छोर बदलना आसान हो गया था.’

चौथे और 5वें गेंदबाज के तौर पर शाहबाज नदीम और वॉशिंगटन सुंदर के बारे में पूछे जाने पर भारतीय कप्तान अपनी निराशा नहीं छिपा सके. उन्होंने कहा, ‘आप चाहते हैं कि आपकी गेंदबाजी इकाई मौके बनाए और विरोधी टीम को दबाव में रखे.’ कोहली ने माना कि इंग्लैंड की टीम यहां संघर्ष के लिए भारत के मुकाबले बेहतर तरीके से तैयार थी.

उन्होंने कहा, ‘टॉस अहम है. उन्होंने जिस तरह से खेला उसका श्रेय उन्हें मिलना चाहिए. हम कोई बहाना नहीं बनाना चाहेंगे. हम गलतियों को स्वीकार कर उससे सीखते हैं.’ भारतीय कप्तान ने उम्मीद जताई की टीम अगले मैचों में कड़ी टक्कर देगी. उन्होंने कहा, ‘हम यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि अगले तीन मैचों में हम कड़ी टक्कर दे और चीजों को अपने हाथ से निकलने नहीं दे जैसा की इस टेस्ट में हुआ.’