पूरे टेस्ट सीरीज में साउथ अफ्रीका टीम नंबर एक टीम के टाइटल के साथ न्याय नहीं कर सकी © AFP

भारत ने दिल्ली टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका को 337 रनों से हरा दिया है। टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका की दूसरी पारी को 143 रनों पर समेट कर ये जीत हासिल की। इस जीत के साथ ही भारत ने साउथ अफ्रीका को टेस्ट सीरीज में 3-0 से करारी मात देते हुए वनडे और टी-20 सीरीज में मिली हार का हिसाब चुकता किया। भारत की ओर से रविचन्द्रन अश्विन ने एक बार फिर से शानदार गेंदबाजी करते हुए 5 विकेट चटकाए। रवीन्द्र जडेजा ने भी दूसरी पारी में हाशिम अमला और फाफ डू प्लेसिस के रूप में दो महत्वपूर्ण विकेट हासिल किए। कोटला टेस्ट के अंतिम दिन साउथ अफ्रीका टीम मैच ड्रॉ करने के उद्देश्य के साथ विकेट पर आई थी। हाशिम अमला, ए बी डीविलियर्स और डू प्लेसिस ने विकेट पर टिक कर खेलते हुए मैच बचाने की पूरी कोशिश की लेकिन भारतीय फिरकी गेंदबाजों ने साउथ अफ्रीकन टीम के अरमानों पर पानी फेर दिया।

सुबह मैच के अंतिम दिन के खेल में सबसे पहले जडेजा ने कल के नाबाद बल्लेबाज हाशिम अमला को पवेलियन भेज कर साउथ अफ्रीका टीम को तगड़ा झटका दिया। इसके बाद मैच बचाने की जिम्मेदारी ए बी डीविलियर्स के कंधों पर थी। डीविलियर्स ने मैच बचाने की पूरी कोशिश करते हुए डू प्लेसिस के साथ मिलकर लंच तक भारत को सिर्फ एक सफलता लेने दी। लंच के बाद भारत ने मैच में वापसी करते हुए डू प्लेसिस का विकेट चटकाकर मैच को साउथ अफ्रीका से और दूर कर दिया। लेकिन डीविलियर्स ने एक छोर पर खूंटागाड़ बल्लेबाजी जारी रखते हुए एक बार फिर से डेन विलास के साथ साझेदारी बनानी शुरू की। लेकिन ये साझेदारी मजबूत होती इससे पहले ही उमेश यादव ने विलास को बोल्ड कर इस साझेदारी का अंत कर दिया। इसके बाद कोई भी बल्लेबाज डीविलियर्स का साथ नहीं निभा सका। डीविलियर्स ने अश्विन की गेंद पर आउट होने से पहले 297 गेंदों में 43 रन की मैराथन पारी खेली लेकिन वो मैच बचाने में असफल रहे। अश्विन ने मोर्ने मोर्कल को आउट कर भारत को 337 रनों से जीत दिला दी।

इससे पहले भारत ने पहली पारी में 334 रन बनाए थे, जवाब में साउथ अफ्रीका टीम सिर्फ 121 के स्कोर पर सिमट गई थी। भारत ने दूसरी पारी में 267 रनों पर घोषित कर साउथ अफ्रीका टीम को जीत के लिए 481 रनों का विशाल लक्ष्य दिया। जिसके जवाब में साउथ अफ्रीकन टीम 143 रनों पर सिमट गई और भारत ने कोटला टेस्ट 337 रनों के विशाल अंतर से जीत लिया। मैच में दोनों पारियों में शतक लगाने वाले अजिंक्य रहाणे को ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया। जबकि पूरी सीरीज में साउथ अफ्रीकन बल्लेबाजों के लिए सिरदर्द रहे रविचन्द्रन अश्विन को ‘मैन ऑफ द सीरीज’ चुना गया।

अजिंक्य रहाणे टेस्ट सीरीज में सबसे सफल बल्लेबाज रहे। अजिंक्य रहाणे ने 4 टेस्ट मैचों में दो शतकों की मदद से सबसे ज्यादा 266 रन बनाए। साउथ अफ्रीका के ए बी डीविलियर्स सीरीज में दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे। उन्होने 4 टेस्ट मैच में कुल 258 रन बनाएं। मैन ऑफ द सीरीज खिताब जीतने वाले रविचन्द्रन अश्विन ने 4 टेस्ट मैचों में 31 विकेट के साथ सबसे सफल गेंदबाज रहे। भारतीय टीम के ही रवीन्द्र जडेजा 23 विकेट के साथ विकेट लेने के मामले में दूसरे स्थान पर रहे। इमरान ताहिर साउथ अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे उन्होने 4 टेस्ट मैच में 14 विकेट चटकाए।