india vs england t20i this series is not like a dress rehearsal for t20 world cup says rohit sharma
रोहित शर्मा @twitter

गुरुवार से भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG T20i Series) की शुरुआत कर रही हैं. 5 मैचों की यह पूरी सीरीज अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेली जाएगी. भारत के सीमित ओवरों के उपकप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने सीरीज की शुरुआत से पहले ही टीम के इरादे साफ कर दिए हैं. रोहित ने कहा कि भारतीय टीम का ध्यान फिलहाल इस सीरीज पर ही केंद्रित है और वह अभी इस सीरीज को आगामी टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) की ड्रेस रिहर्सल के रूप में नहीं देख रहे हैं.

टीम इंडिया ने इस सीरीज के लिए कुछ नए चेहरों को टीम में चुना है, जबकि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) को आराम दिया गया है क्योंकि टीम वर्ल्ड कप की तैयारियों में जुटी है. हालांकि उपकप्तान ने साफ-साफ इसे टी20 वर्ल्ड कप से नहीं जोड़ा और कहा कि टीम एक समय में एक ही टारगेट पर ध्यान देगी. ऐसे में हमारा पूरा ध्यान अभी इस सीरीज पर है.

रोहित ने शुक्रवार को होने वाले मैच से पूर्व कहा, ‘हम इसे किसी तरह की रिहर्सल के तौर पर नहीं देखेंगे. हम इतने आगे के बारे में नहीं सोच रहे हैं और केवल सीरीज जीतने पर ध्यान दे रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘अगर ध्यान वर्तमान पर रहा तो भविष्य में स्वयं ही इसका फायदा मिलेगा. यह लंबी सीरीज है और यह देखना महत्वपूर्ण है कि एक टीम और खिलाड़ी के रूप में हम किस स्थिति में हैं.’

यह देखना दिलचस्प होगा कि रोहित के साथ केएल राहुल (KL Rahul) और शिखर धवन (Shikhar Dhawan) में से कौन पारी का आगाज करेगा? इस बारे में उन्होंने कहा, ‘हम अपने संयोजन का खुलासा नहीं कर सकते. हमें शुक्रवार तक इंतजार करना होगा.’

इस स्टार सलामी बल्लेबाज ने हालांकि कहा कि उनकी भूमिका नहीं बदलेगी और वह जैसी बल्लेबाजी करते थे वैसे ही करेंगे. रोहित ने कहा, ‘अगर हम पहले बल्लेबाजी करते हैं तो यह टीम को अच्छी शुरुआत दिलाने से जुड़ा है. मेरे लिए कुछ नहीं बदला है. लक्ष्य का पीछा करते हुए रवैया वही रहेगा लेकिन मानसिकता बदल जाएगी क्योंकि आपको कई चीजों का आकलन करना होता है.’

रोहित ने चौथे टेस्ट में 144 गेंदों पर 49 रन बनाए लेकिन यह परिस्थितियों के अनुरूप था. इस स्टार बल्लेबाज ने कहा, ‘मैंने केवल 49 रन बनाए लेकिन लगभग 150 गेंदें खेलीं. निजी तौर पर यह मेरे लिए बड़ी जीत थी. वे बाहर गेंद कर रहे थे और मुझे शॉट खेलने के लिए लुभाया जा रहा था लेकिन मैंने अपनी स्वभाव के विपरीत बल्लेबाजी की. मैंने खुद पर नियंत्रण रखा. यह वास्तव में मेरे लिए संतोषजनक था.’