रिषभ पंत, विराट कोहली (IANS)

न्यूजीलैंड के खिलाफ मिली करारी हार के बाद कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) आलोचकों के निशाने पर आए युवा विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) के बचाव में उतरे हैं। कोहली का साफ कहना है कि हार का कारण पूरी टीम का खराब प्रदर्शन था इसलिए केवल पंत को दोषी ठहराना गलत होगा।

क्राइस्टचर्च टेस्ट में 7 विकेट से हारने के बाद मीडिया के सामने आए कोहली ने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया सीरीज की शुरुआत से हमने घरेलू सीजन में भी उसे (पंत को) काफी मौके दिए। इसके बाद वो कुछ समय के लिए नहीं खेला। उसने इसके बाद कड़ी मेहनत की।’’

ये पहला मौका नहीं है जब पंत को फैंस की आलोचना का शिकार होना पड़ रहा है, ये खिलाड़ी पिछले लगभग एक साल से समीक्षकों का सबसे पसंदीदा टारगेट बना हुआ है। न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में पंत चार पारियों में केवल 60 रन बना पाए, जिसके बाद फिर से रिद्धिमान साहा की जगह पंत को तरजीह देने के फैसले को लेकर बहस शुरू हो गई है।

विलियमसन को गाली देने के सवाल पर भड़के विराट, पत्रकार से कहा- आपका मकसद…

इस पर कप्तान ने कहा, ‘‘आपको तय करना होगा कि किसी और को मौका देने का सही समय कौन सा है। अगर आप लोगों को काफी जल्दी बदल दोगे तो वह आत्मविश्वास खो सकता है। हम सामूहिक रूप से प्रदर्शन करने में नाकाम रहे। मैं सिर्फ उस पर निशाना साधने पर विश्वास नहीं करता।’’

टीम में किसी की भी जगह पक्की नहीं है

ये पूछने पर कि क्या उनका मानना है कि पंत ने टीम में अपनी जगह पक्की मान ली है, कोहली ने स्पष्ट किया कि इस टीम का कल्चर किसी भी खिलाड़ी को ऐसा सोचने के लिए प्रेरित नहीं करती।

कोहली ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि इस टीम में कोई खिलाड़ी अपनी जगह पक्की मानकर चल रहा है। हमने यही कल्चर बनाया है। खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेने और कड़ी मेहनत करने को कहा गया है। यह काम करता है या नहीं, यह अलग चीज है। इसके बाद आप खिलाड़ियों से बात कर सकते हो। लेकिन कोई भी यहां ये सोचकर नहीं आया था कि उसे सभी मैच खेलने को मिलेंगे या मुझे हटाया नहीं जा सकता।’’