भारतीय क्रिकेट टीम दो मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट में मुश्किल स्थिति में है. मेजबान न्यूजीलैंड ने भारत को पहली पारी में 165 रन पर ढेर करने के बाद अपनी पहली पारी में 348 रन बनाए. कीवी टीम को पहली पारी में 183 रन की बढ़त प्राप्त है. तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक भारत ने दूसरी पारी में 144 रन पर अपने 4 विकेट गंवा दिए हैं. टीम इंडिया को पारी की हार टालने के लिए अब भी 39 रन की जरूरत है.

इशांत के 5 विकेट हॉल पर गुरू जेसन गिलेस्‍पी की प्रतिक्रिया, दिया BCCI कोचिंग स्‍टाफ को श्रेय

ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को लगता है कि पहले टेस्ट में लक्ष्य देना अभी काफी दूर है और इसके लिए अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी को मददगार पिच पर न्यूजीलैंड की शानदार गेंदबाजी के सामने चौथे दिन पहले सत्र में अच्छी बल्लेबाजी करनी होगी.

‘हमारे लिए  टेस्ट अभी शुरू हुआ है’

अश्विन ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘हालांकि पिच पहले दिन की तरह नहीं हैं लेकिन वे दूसरी पारी में अच्छी लेंथ से धारदार गेंदबाजी कर रहे हैं. उन्होंने हमारे लिए मुश्किल पैदा की और हमारे लिए टेस्ट अभी शुरू हुआ है. उन्होंने 65 ओवर गेंदबाजी की है और हमें देखना होगा कि वे कल कैसी गेंदबाजी करते हैं क्योंकि हमें सुबह में एक और सेशन तक बल्लेबाजी करनी होगी.’

टीम इंडिया को मंझधार में छोड़ पवेलियन लौटे विराट कोहली, सोशल मीडिया पर फैंस ने ली कुछ इस तरह से चुटकी

यह पूछने पर कि चौथी पारी में कितने लक्ष्य का बचाव किया जा सकता है लेकिन अश्विन ने इस संबंध में कहा, ‘मैं इसे सरल रखना चाहूंगा और यह नहीं कहूंगा कि इसे हासिल किया जा सकता है, इसे नहीं. अभी छह सेशन और खेले जाने हैं और हम ऐसी स्थिति में भी नहीं हैं कि हम कह सकें कि बचाव करने के लिए क्या अच्छा स्कोर है.’

‘विकेट अब भी बल्लेबाजी के अनुकूल’

न्यूजीलैंड ने पहली पारी में 348 रन बनाए, तो इसके करीब बनाने से क्या भारत के पास मौका बन सकता है. इस पर अश्विन ने कहा, ‘लेकिन यह भी अभी बहुत दूर है और ईमानदारी से कहूं तो हमें हर गेंद को खेलना होगा क्योंकि अभी पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी है.’

उन्होंने कहा, ‘हमें प्रत्येक सत्र, प्रत्येक घंटे के हिसाब से खेलना होगा. हम भले ही कितना भी छोटा लक्ष्य बना सकें, हमारे लिए बेहतर होगा. उन्होंने (रहाणे और विहारी) अच्छी बल्लेबाजी की है. हमें इसी तरह बल्लेबाजी करना जारी रखना होगा. वे क्रीज पर जमे हुए हैं और जानते हैं कि विकेट कैसा है.’