भुवनेश्वर कुमार © AFP
भुवनेश्वर कुमार © AFP

सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने अपनी शानदार गेंदबाजी के दम पर टीम को जीत दिला दी। भुवनेश्वर ने 4 ओवर में सिर्फ 19 रन देकर 5 विकेट अपने नाम किए जिसके चलते एक समय जीत की दहलीज पर खड़ी दिख रही किंग्स इलेवन पंजाब की टीम 5 रन से हार गई। भुवनेश्वर कुमार को उनके जबर्दस्त प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच से नवाजा गया। वैसे अपनी टीम को जीत दिलाने के बाद भुवनेश्वर कुमार रिपोर्टर बन गए और उन्होंने अफगानिस्तान के खिलाड़ी मोहम्मद नबी और राशिद खान से खास बातचीत की।

भुवनेश्वर कुमार ने मोहम्मद नबी से उनके आईपीएल डेब्यू पर सवाल पूछा जिस पर नबी ने जवाब दिया ‘आईपीएल एक बहुत बड़ा टूर्नामेंट है इसलिए मैं डेब्यू के दौरान थोड़ा नर्वस था। पहले मुझे बल्लेबाजी का मौका मिला लेकिन आखिर ओवरों में मैं सिर्फ दो-तीन गेंद ही खेल पाया उसके बाद गेंदबाजी के दौरान मेरी पहली ही गेंद पर छक्का लग गया तो मैं थोड़ा दबाव में आ गया था। वैसे आगे मुझे अगर मौका मिला खेलने का तो मुझ पर इतना दबाव नहीं होगा।’

भुवनेश्वर ने मोहम्मद नबी से एक और सवाल किया और पूछा कि जब उन्होंने पहली गेंद पर छक्का खाया तो उनके जहन में क्या रणनीति थी? इस पर नबी ने जवाब दिया ‘मैंने सोचा कि छक्का को लग गया लेकिन अब मुझे विकेट पर ही गेंद करनी है और मेरी कोशिश ये रही कि अब मेरी गेंद पर बड़ा शॉट ना लगे।’ ये भी देखें-आईपीएल 10, 19वां मैच, सनराइजर्स हैदराबाद बनाम किंग्स इलेवन पंजाब का स्कोरकार्ड

भुवनेश्वर ने इसके बाद लेग स्पिनर राशिद खान से सवाल किया कि उन्होंने पिछले 4 मैच में पहले ही ओवर में विकेट लिए थे लेकिन इस अहम मुकाबले में उन्होंने पहले ओवर में 16-17 रन दे दिए उसके बाद आपने वापसी कैसे की? इस पर राशिद खान ने जवाब दिया ‘पहले ओवर में रन जरूर पड़ गए थे लेकिन मुझे खुद पर विश्वास था कि जब पावर प्ले खत्म होगा तो मैं वापसी कर सकता हूं। मैंने खराब गेंदों पर रन बनवाए थे इसीलिए मैंने सोचा कि अगले कुछ ओवर में मैं विकेट पर सीधे-सीधे गेंद फेंकूंगा। मेरी ये रणनीति थी कि जो बल्लेबाज सोच रहा है उसके एकदम उलट कुछ करूं। मतलब अगर बल्लेबाज मेरी गुगली के लिए तैयार था तो मैं लेग स्पिनर करने की ज्यादा कोशिश कर रहा था। मेरी कोशिश ज्यादा से ज्यादा गेंद खाली निकालने की थी।

वैसे अपने इस इंटरव्यू के दौरान भुवनेश्वर कुमार ने अपनी राय भी रखी। भुवनेश्वर ने कहा ‘जब आपका स्कोर इतना ज्यादा ना हो तो नई गेंद से विकेट लेना काफी जरूरी होता है। मैंने 5 विकेट लिए लेकिन मैं ये नहीं बोलूंगा कि मैच मेरी वजह से जीते हैं। राशिद ने विकेट लिए और नबी ने भी अच्छी गेंदबाजी की। ये जीत हमें टीम की बदौलत मिली। वैसे पिच पर रन बनाना आसान नहीं था, हमने भी शुरुआती 10 ओवर में सिर्फ 60 रन ही बनाए थे। ‘

भुवनेश्वर कुमार ने मैच जीतने की सबसे बड़ी वजह बल्लेबाजी के दौरान आखिरी ओवर में राशिद खान और कप्तान डेविड वॉर्नर के छक्के को बताया। भुवनेश्वर ने कहा ‘जिस विकेट पर रन नहीं बन रहे थे और अगर वहां पर आखिरी ओवर में 2 छक्के लग जाएं तो उससे पूरा खेल बदल गया। बाद में हमने अच्छी गेंदबाजी की, दो मैच हारने के बाद वापसी की’

वैसे आपको बता दें भुवनेश्वर कुमार के आखिरी ओवर ने किंग्स इलेवन पंजाब से जीत छीनी। भुवनेश्वर कुमार 19वां ओवर फेंकने आए और उस वक्त पंजाब को 2 ओवर में सिर्फ 16 रन चाहिए थे। भुवनेश्वर ने गजब की गेंदबाजी करते हुए पहली गेंद पर के सी करियप्पा को आउट किया और उसके बाद तीसरी गेंद पर उन्होंने तूफानी बल्लेबाजी कर रहे मनन वोहरा को पैवेलियन की राह दिखा दी। भुवनेश्वर के ओवर में सिर्फ 5 रन बने और उन्होंने 2 बेशकीमती विकेट हासिल किए।

भुवनेश्वर ने अपने आखिरी ओवर पर कहा ‘मेरे पास दो ही विकल्प थे या तो मैं दबाव में आ जाता या फिर मैं ये सोचता कि अब करना क्या है। मुझे पता था कि 19वां ओवर मुझे ही फेंकना है और इसीलिए मेरे दिमाग में रणनीति तैयार थी।’