हाल में कोरोना वायरस से उबरे चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के प्रमुख तेज गेंदबाज दीपक चाहर (Deepak Chahar) ने बताया कि डेथ ओवर में गेंदबाजी करने की इच्छा जताने पर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने उन्हें क्या जवाब दिया।

पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा के यू-ट्यूब शो ‘आकाशवाणी’ में इंटरव्यू के दौरान चाहर ने कहा, “आमतौर पर आप पुरानी गेंद उन गेंदबाजों को नहीं देते जो 120-125 की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं लेकिन जब मैं आरपीएस के लिए खेल रहता और फिर जब सीएसके के लिए खेलता था तो भी मैं 140 की गति से गेंदबाजी करता था लेकिन फिर भी वो डेथ ओवर में मुझे गेंद नहीं देते थे।”

जब कैप्टन कूल ने चाहर को डेथ ओवर में गेंद नहीं दी तो इस गेंदबाज ने उनके सामने अपनी बात रखी। उस घटना को याद कर चाहर ने कहा, “मैंने माही भाई से ये पूछा। उन्होंने मुझे केवल दो शब्दों में जवाब दिया और फिर मैं कुछ नहीं कह पाया। इसलिए मैंने गेंदबाजी कोच से पूछा, उन्होंने भी यही कहा कि मुझे डेथ ओवर में गेंदबाजी करनी चाहिए।”

उन्होंने कहा, “आखिर में मैंने हिम्मत जुटाई और जब माही भाई सिटिंग रूम में बैठे थे तो उनसे पूछ लिया। उन्होंने कहा, ‘मैं खिलाड़ियों को तैयार करता हूं’ और बस। उन्होंने कुछ और नहीं कहा।”

धोनी ने राइजिंग पुणे सुपरजायंट से सीएसके में आए चाहर को टीम के प्रमुख गेंदबाज के रूप में तैयार किया। चाहर हर मैच में नई गेंद से सीएसके के गेंदबाजी अटैक की शुरुआत करते हैं। आईपीएल में लगातार शानदार प्रदर्शन के बाद चाहर को टीम इंडिया के लिए अंतरराष्ट्रीय डेब्यू करने का मौका भी मिला। अब वो टी20 अंतरराष्ट्रीय में भारत के प्रमुख खिलाड़ियों में से एक हैं और इसके पीछे उन्हें मिला धोनी का समर्थन है।

इस बारे में चाहर ने कहा, “मेरा मानना है कि धोनी उन खिलाड़ियों को पसंद करते हैं हर विभाग में अच्छा प्रदर्शन करते हैं। उन्हें वो लोग सही लगते हैं तो बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग में योगदान दे सकते हैं। एक गेंदबाजा का दिन खराब हो सकता है लेकिन वो एक अच्छा कैच लेकर या फिर चौका-छक्का रोककर मैच का रुख बदल सकता है।”

चाहर ने आगे कहा, “अगर आप हमारी टीम को देखें तो हमारे पास ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो हर विभाग में अच्छे हैं। टी20 ऐसा फॉर्मेट है जहां हर आपको सब कुछ करने की जरूरत पड़ती है। आईपीएल में कई ऐसी टीमें हैं जिनका बल्लेबाज क्रम मजबूत है या फिर गेंदबाजी अटैक शानदार है लेकिन वो उन कुछ खिलाड़ियों पर निर्भर रहती हैं। अगर वो अच्छा करते हैं तो वो अकेले ही मैच जिता देते हैं लेकिन अगर नहीं कर पाते तो टीम संघर्ष करती है।”

कोरोना टेस्ट में निगेटिव आ चुके चाहर मुंबई इंडियंस के खिलाफ अबू धाबी में होने वाले पहले मैच में चयन के लिए उपलब्ध हैं।