×

युवराज-सहवाग की याद दिलाते हैं देवदत्त पाडिक्कल: पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद

युवा देवदत्त पाडिक्कल ने 13वें आईपीएल सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए 13 मैचों में 422 रन बनाए हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) के 13वें सीजन में अपनी बल्लेबाजी से सभी को प्रभावित करने वाले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के युवा बल्लेबाज देवदत्त पाडिक्कल (Devdutt Padikkal) ने पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद (Venkatesh Prasad) पर भी अपना प्रभाव छोड़ा है। प्रसाद का कहना है कि पाडिक्कल को देखकर उन्हें युवा युवराज सिंह (Yuvraj Sinhg) की याद आती है।

हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में उन्होंने कहा, “उसके बारे में जो सबसे पहली बात मैंने देखी वो ये किवो बाएं हाथ का बल्लेबाज है जो कि भारत में दुर्लभ होता है। हमें एक अच्छा बाएं हाथ का बल्लेबाज देखे इतना समय हो गया है। सौरव गांगुली और युवराज सिंह उनमें से दो थे लेकिन उनके अलावा हम ज्यादा बाएं हाथ के बल्लेबाज नहीं देखते हैं। पाडिक्कल के बाएं हाथ का होने से लोग उसपर और ध्यान देंगे। दूसरी बार जो मुझे सबसे अच्छी लगी वो उसकी फील्डिंग, जैसा कि मैंने कहा, फिलहाल फील्डिंग फिटनेस पर निर्भर करती है।”

प्रसाद के मुताबिक पाडिक्कल में युवराज के साथ साथ विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग की झलक भी दिखती है। उन्होंने कहा, “जहां बात बैट स्पीड की आती है, वहां वीरेंदर सहवाग एक अच्छा उदाहरण है, जैसे कि देवदत्त पाडिक्कल और उसका हैंड-आई कोऑर्डिनेशन। और सहवाग सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों में से थे, उसके नाम दो तिहरे शतक है।”

पूर्व पेसर ने आगे कहा, “उसके कुछ शॉट 20 साल के युवराज सिंह जैसे थे। जैसा कि उसका पुल शॉट और जहां आगे बढ़कर तेज खेलने की बात आती है या फिर तेज गेंदबाजों के खिलाफ अटैक करने की आदत। इससे उसके आत्मविश्वास का पता चलता है।”

प्रसाद ने कहा, “दबाव भरे माहौल में एक खिलाड़ी की असली परीक्षा की ओर से पहला कदम है। उसने आईपीएल में अब तक दबाव को अच्छे से संभाला है। इसे दुनिया भर में देखा जाता है, इसका फैन बेस बहुत बड़ा है और उस पर सभी की निगाहें हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “अभी आगे बहुत करियर बाकी है। एक चीज पक्की है कि अगर वो अपनी प्रक्रिया पर ध्यान लगाएगा, फिटनेस पर काम करेगा तो वो लंबा जाएगा। और बाएं हाथ का बल्लेबाज होने से उसे काफी फायदा मिलेगा। उसे केवल खुद को शांत रखना है और चीजों को अपने सिर पर नहीं चढ़ने देना है। अगर वो अनुशासित रहेगा, मुझे पूरा यकीन है कि अब तक जो उसने किया उससे भी कहीं बड़ी उपलब्धियां उनका इंतजार कर रही हैं।”

प्रसाद ने ना केवल पाडिक्कल की बल्लेबाजी बल्कि उनकी फील्डिंग की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “हम उसे कई शानदार कैच लेते देखा है- एक स्लिप में और एक कैच जो उसने डाइव लगाकर लिया था, इससे पता चलता है कि वो किसी भी पोजीशन में फील्ड कर सकता है। इसलिए उसे और फायदा मिलता है। उसके पास वो एटीट्यूड, फिटनेस है। लोगों ने उस पर ध्यान भी दिया है।”

trending this week