भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) 14 महीने बाद प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी करेंगे. धोनी ने अपना अंतिम इंटरनेशनल मैच पिछले साल न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में खेला था. इसके बाद से वह ब्रेक के तहत टीम इंडिया से दूर थे. 15 अगस्त को धोनी ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी.

धोनी के लंबे समय बाद मैदान पर उतरने को लेकर आईपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) के कोच स्टीफन फ्लेमिंग (Stephen Fleming) ने कहा कि सीएसके के कप्तान के लिए ब्रेक फायदेमंद रहा जिससे वह तरोताजा होकर तकनीकी रूप से अलग आईपीएल 2020 (IPL 2020) की चुनौतियों से निपटने के लिए मानसिक रूप से दृढ हैं.

‘टीम का बड़े मैच जीतने का अनुभव अगले 53 दिन तक काफी काम आएगा’

शनिवार को सीएसके और रोहित शर्मा की मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के बीच टूर्नामेंट का शुरूआती मुकाबला खेला जाएगा. न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान फ्लेमिंग ने कहा कि उनकी टीम का बड़े मैच जीतने का अनुभव अगले 53 दिन तक काफी काम आएगा.

पिछले महीने धोनी ने एक साल से ज्यादा समय के ब्रेक के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया और जब आईपीएल के लिए उनकी तैयारियों के बारे में पूछा गया तो फ्लेमिंग ने कहा, ‘इसमें कुछ भी अलग नहीं हुआ. वह बहुत फिट है और मानसिक रूप से काफी व्यस्त है और दृढ़ है.’

सीएसके (CSK) की अधिकारिक वेबसाइट को टूर्नामेंट से पूर्व दिए साक्षात्कार में फ्लेमिंग ने कहा, ‘कुछ तरीकों से ब्रेक हमारे अनुभवी और बड़ी उम्र के खिलाड़ियों के लिये काफी कारगर हो सकता है. एमएस तरोताजा है और अच्छा करने को तैयार है.’

तीन बार की चैंपियन टीम अपने 35 से ज्यादा उम्र के खिलाड़ियों पर काफी निर्भर हैं जिसमें खुद धोनी, शेन वाटसन, ड्वेन ब्रावो, केदार जाधव और इमरान ताहिर शामिल हैं.

‘अनुभव यही होता है इसलिये हम इसे काफी अहम मानते हैं’

फ्लेमिंग ने कहा, ‘अनुभवी खिलाड़ी अहम मौकों को पहचान सकते हैं इसलिये ही उन्होंने अपने करियर में इतना शानदार प्रदर्शन किया है. वे मैच का रूख मोड़ सकते हैं, दबाव को झेल सकते हैं और परिस्थितियों का आकलन कर सकते हैं. अनुभव यही होता है इसलिये हम इसे काफी अहम मानते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘इसलिए हम इतने सारे करीबी मैचों में जीत हासिल करने में सफल रहे क्योंकि महत्वपूर्ण खिलाड़ियों को काफी अनुभव रहा है. और आप इसमें कौशल को भी मिला सकते हो. आप युवाओं को शामिल कर सकते हो और सही संतुलन बना सकते हो.’