ipl 2020, ipl 2020 news today: इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League 2020) के 13वें एडिशन के लिए सभी 8 टीमें संयुक्त अरब अमीरात (UAE) पहुंच चुकी हैं.  चेन्नई सुपरकिंग्स (Chennai Super Kings) को छोड़कर अन्य टीमों  ने बायो बबल में रहते हुए आउटडोर प्रैक्टिस भी शुरू कर दिया है.  सीएसके दल के 2 खिलाड़ियों सहित 13 सदस्यों को पिछले हफ्ते कोरोना वारयस (Coronavirus) के लिए पॉजिटिव पाया गया, जिससे महामारी के बीच यूएई में होने वाले टूर्नामेंट के लिए सुरक्षा चिंतायें बढ़ गई हैं.

किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया (Ness Wadia) ने गुरुवार को कहा कि सीएसके दल में आए कोविड-19 (COVID-19) पॉजिटिव मामले आठ में से किसी भी फ्रेंचाइजी में आ सकते थे और वह चाहते हैं कि आईपीएल बायो-बबल में केवल वही लोग होने चाहिए जिनका खिलाड़ियों के साथ होना ‘सचमुच जरूरी’ हो.

‘सभी एहतियात बरते जा रहे हैं’

वाडिया ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘सीएसके (CSK) घटना ने हमें बताया कि यह किसी के साथ भी हो सकता है, जबकि सभी एहतियात बरते जा रहे हैं इसलिये हमें बायो-बबल प्रोटोकॉल का और अच्छी तरह सख्ती से पालन करना चाहिए.  हमें सुनिश्चित करना चाहिए कि केवल वे ही बबल का हिस्सा हों जिनका खिलाड़ियों के साथ होना सचमुच जरूरी है. ’

फ्रेंचाइजी के गैर खिलाड़ी और गैर कोचिंग स्टाफ में टीम परिचालन प्रबंधक और सोशल मीडिया विशेषज्ञ शामिल हैं.  फोटो शूट के दौरान क्रिकेटरों को मार्केंटिंग स्टाफ के साथ भी समय बिताना पड़ता है जो 19 सितंबर से शुरू हो रही लीग के करीब ही होंगे.

‘ऐसे में उन्हें भी सात दिन के पृथकवास में जाना पड़ सकता है’

टीमों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और मालिकों को भी बायो-बबल में प्रवेश की अनुमति है, इनमें से ज्यादातर यूएई नहीं पहुंचे हैं लेकिन मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) उल्लंघन के कारण उन्हें भी सात दिन के पृथकवास में जाना पड़ सकता है.

बीसीसीआई एसओपी के अनुसार, ‘टीमों के बाहर के स्टाफ की संख्या, सहयोगी स्टाफ और मैच अधिकारियों की संख्या को न्यूनतम तक सीमित रखना चाहिए. ’

जब उनसे पूछा गया कि वे टूर्नामेंट के लिये जायेंगे तो वाडिया ने कहा, ‘मैंने अभी फैसला नहीं किया है लेकिन मैं सामान्य रूप से ज्यादा खिलाड़ियों से बातचीत नहीं करता.  मैंने अभी तक अनिल कुंबले (Anil Kumble मुख्य कोच) से दो बार बात की है कि क्या चल रहा है.  मैं जूम या अन्य किसी ऑनलाइन मंच पर बात करने में ज्यादा सहज हूं. ’