अब जबकि इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) का यूएई में आयोजित होना निश्चित हो चुका है, तो फ्रेंचाइजी बाकी तैयारियों में जुट गई है। जिसमें सबसे अहम सवाल है कि जिस दिन मैच नहीं होता है, उस दिन खिलाड़ी क्या करेंगे क्योंकि उन्हें मैदान से बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी। ऐसे में खिलाड़ी वर्चुअल गेम्स का सहारा ले सकते हैं।

एक फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि जिस दिन मैच नहीं होगा उस दिन खिलाड़ी क्या करेंगे ये उनके एजेंडा में है क्योंकि इस माहौल में वो टीम होटल से बाहर नहीं जा सकेंगे।

उन्होंने कहा, “ये निश्चित तौर पर चर्चा का विषय है बल्कि मैं तो ये कहूंगा कि ये इस साल सबसे बड़ी चुनौती है। जब आपको पता है कि खिलाड़ी दो महीने तक कमरें में रहेंगे तो आपको उन्हें विकल्प मुहैया कराने होते हैं। एक्सबॉक्स और गेमिंग की सुविधाएं हावी रहेंगी। इस बात से हैरान नहीं होना अगर खिलाड़ी दो महीने में आईपीएल से ज्यादा फीफा खेलें।”

अधिकारी ने कहा, “साथ ही, फुसबाल ऐसा गेम है जो खिलाड़ियों में काफी प्रचलित है, इसके अलावा पूल और टेबल टेनिस भी। आप सिर्फ खिलाड़ियों को बता नहीं सकते कि वह होटल से बाहर नहीं जा सकते। आपको एक ऐसा माहौल तैयार करना होगा कि जिस दिन मैच ना हो उस दिन खिलाड़ी टीम रूम में आने को लेकर उत्साहित हों।”

इस बात को मानते हुए एक और फ्रेंचाइजी के अधिकारी ने कहा, “आप नेटफिलिक्स पर फिल्म देख सकते हैं अच्छी बात है। ये आप अपने कमरे में भी कर सकते हैं। हमें खिलाड़ियों को व्यस्त रखने के लिए कुछ अलग सोचना होगा। ये हमारे लिए निश्चित तौर पर चुनौती होगा, खासकर तब जब खिलाड़ियों के परिवार साथ नहीं होंगे। इसके बारे में हमें अगले कुछ दिनों में बीसीसीआई से जानकारी मिल जाएगी। आईपीएल गर्विनंग काउंसिल की बैठक के बाद हमारी उनसे इस मामले पर बैठक होनी हैं।”

रविवार को होने वाली बैठक में होगा परिवार के जाने का फैसला

ऐसी खबरें हैं कि फ्रेंचाइजियों ने बीसीसीआई से खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ के परिवारों को ले जाने की अपील की है। फ्रेंचाइजियों ने हालांकि कहा है कि परिवार एक साथ ना जाकर टुकड़ों में जाएं।

उन्होंने कहा, “यूएई में सबसे अच्छी बात यह है कि अगर आपकी कोविड-19 रिपोर्ट निगेटिव आती है तो आपको क्वारंटीन में जाने की जरूरत नहीं है। इसलिए कुछ फ्रेंचाइजियों ने अपील की है कि खिलाड़ियों की पत्नी या प्रेमिकाओं को कुछ समय के लिए वहां जाने की मंजूरी दी जाए।”

अधिकारी के मुताबिक, “वो दो महीने की मंजूरी नहीं मांग रही हैं, बस 10-12 दिन की मांग रही हैं क्योंकि ये मुश्किल समय है और अगर आपके पास कोई अपना होता है तो इससे बेहत कुछ नहीं होता। उम्मीद है कि रविवार को होने वाली आईपीएल जीसी की बैठक में इस पर फैसला होगा।”