भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) के 14वें सीजन की नीलामी का आयोजन 18 फरवरी को चेन्नई में होगा। इस नीलामी में कुल 292 खिलाड़ी, जिसमें 164 भारत जिसमें 164 भारतीय, 125 विदेशी और तीन एसोसिएट देश के क्रिकेटर हैं।

चूंकि बीसीसीआई ने इस सीजन नई टीमों को टूर्नामेंट में शामिल ना करने का फैसला किया है, ऐसे में 14वें सीजन की नीलामी में 8 फ्रेंचाइजी ही हिस्सा लेंगी। जिसका मतलब है कि इस बार मेगा ऑक्शन नहीं हो रहा है। जिस वजह से इस बार नीलामी में कुछ नियम लागू होंगे, जिनका सभी टीमों को पालन करना होगा।

क्या हैं IPL 2021 नीलामी के नियम:

RTM कार्ड: चूंकि 14वें सीजन की नीलामी मेगा ऑक्शन के बजाय मिनी ऑक्शन के तौर पर आयोजित की जा रही है इस वजह से किसी भी टीम के पास राइट टू मैच का कार्ड नहीं होगा। बता दें कि आरटीएम कार्ड का इस्तेमाल कर नीलामी में बिक चुके किसी खिलाड़ी को उतनी ही राशि में रीटेन कर सकती है।

आवंटित नीलामी खिलाड़ी पर्स से आगे कोई खरीद नहीं: बीसीसीआई ने इस सीजन की नीलामी के लिए फ्रेंचाइजियों की पर्स को ना बढ़ाने का फैसला किया है यानि कि सभी आठ टीमें 85 करोड़ की पुरानी सीमा के अंतर्गत ही खरीद करेंगी।

आईपीएल फ्रेंचाइजी के पर्स में बचे हुए पैसे: चेन्नई सुपर किंग्स (19.9 Cr), दिल्ली कैपिटल्स (12.9 Cr), किंग्स इलेवन पंजाब (53.2 Cr),कोलकाता नाइट राइडर्स (10.75 Cr), मुंबई इंडियंस (15.35 Cr), राजस्थान रॉयल्स (34.85 Cr) , रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (35.9 Cr), सनराइजर्स हैदराबाद (10.75 Cr)

पर्स की कीमत से 75 प्रतिशत राशि ही खर्च कर सकेंगी टीमें: बीसीसीआई और आईपीएल गवर्निंग समिति के नियम के मुताबिक टीमें इस नीलामी के दौरान अपने कुल पर्स (85 करोड़) की 75 राशि ही खर्च कर सकेंगी। अगर कोई भी फ्रैंचाइज़ी उस राशि से कम खर्च करती है, तो शेष राशि जब्त कर ली जाएगी।

स्क्वाड स्ट्रेंथ से जुड़े नियम: हर टीम के लिए अधिकतम खिलाड़ियों की संख्या 25 है। हालांकि, हर टीम के स्क्वाड में कम से कम 18 खिलाड़ी होने चाहिए। एक टीम में कम से कम 17 और अधिकतम 25 भारतीय खिलाड़ी हो सकते हैं, जो कैप्ड या अनकैप्ड हो सकते हैं। वहीं हर एक टीम में अधिकतम आठ अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी हो सकते हैं।