ireland all rounder player kevin o brien retired from international cricket posted information on twitter

डबलिन: आयरलैंड के हरफनमौला खिलाड़ी केविन ओ ब्रायन ने मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की।

2006 में आयरलैंड के लिए डेब्यू करते हुए ओ ब्रायन लगभग दो दशकों तक अपने करियर में एक महत्वपूर्ण सदस्य के रूप में आयरलैंड को एसोसिएट सदस्य से टेस्ट दर्जे की स्थिति तक पहुंचाने वाले अहम खिलाड़ी साबित हुए। ओ ब्रायन कई बल्लेबाजी रिकॉर्ड के साथ वनडे प्रारूप में आयरलैंड के अग्रणी विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे। उन्होंने 32.68 की औसत और 5.20 की इकॉनमी दर से 114 विकेट हासिल किए।

आयरलैंड के दिग्गज ने सोशल मीडिया पोस्ट में अपनी संन्यास की घोषणा की। ओ ब्रायन ने अपने पोस्ट में कहा कि उन्हें आगामी टी20 विश्व कप में खेलने के बाद संन्यास लेने की उम्मीद की थी, लेकिन अवसरों की कमी के कारण उन्होंने संन्यास लेने का फैसला किया।

ओ ब्रायन ने ट्विटर पर कहा, ‘आज मैं अपने देश के लिए 16 साल और 389 मैच के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा करता हूं। मुझे आस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप में अपना करियर खत्म करने की उम्मीद थी, लेकिन पिछले साल के विश्व कप के बाद से आयरिश टीम के लिए नहीं चुना गया, मुझे लगता है चयनकर्ता और प्रबंधन आगे बढ़ चुके हैं।’

 

 

उन्होंने कहा, ‘मैंने आयरलैंड के लिए खेलने के हर मिनट का आनंद लिया है। मैदान पर कई दोस्त बनाए हैं और मेरे पास राष्ट्रीय टीम के साथ खेलने की बहुत सारी सुखद यादें हैं।’

आयरलैंड के लिए ओ ब्रायन के पास अभी भी सबसे तेज आईसीसी क्रिकेट विश्व कप शतक का रिकॉर्ड है। 2011 में बैंगलोर में इंग्लैंड के खिलाफ उनकी अविश्वसनीय मैच जीतने वाली पारी भी शामिल है। बल्लेबाज ने 113 रनों की अपनी शानदार मैच विजयी पारी के दौरान 13 चौके और छह छक्के लगाए, जिससे महज 50 गेंदों में शतक पूरा किया जिसके दम पर आयरलैंड ने विशाल 328 रनों के लक्ष्य को सफलतापूर्वक हासिल किया।

आलराउंडर के पास सबसे बड़े मंच पर प्रदर्शन करने की क्षमता थी, जिसने जिम्बाब्वे के साथ 2007 क्रिकेट विश्व कप में जिम्बाब्वे के खिलाफ एक रोमांचक मुकाबले में एक महत्वपूर्ण विकेट लिया था और उसी विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ ट्रेंट जॉनसन के साथ एक मुश्किल चेज का सफल पीछा किया था।

एजेंसी – आईएएनएस