Liton Das: Century in Asia Cup final could prove to be the turning point in my career
Liton Das (File Photo) © IANS

एशिया कप 2018 के फाइनल मुकाबले में बांग्‍लादेश की टीम को भारत के सामने हार का सामना करना पड़ा। हालांकि इसके बावजूद भी 117 गेंद पर 121 रन की शानदार पारी खेलकर बांग्‍लादेश के विकेटकीपर बल्‍लेबाज लिटन दास ने खूब वाहवाही बटोरी।

लिटन दास का मानना है कि फाइनल मुकाबले में खेली गई पारी उनके करियर में टर्निंग प्‍वाइंट साबित हो सकती है। ये उनके करियर का पहला वनडे शतक है। दास ने साल 2015 में वनडे क्रिकेट में डेब्‍यू किया था। इसके बाद से ही वो केवल 18 वनडे मुकाबले टीम के लिए खेल पाए हैं। वो कभी भी टीम के स्‍थाई सदस्‍य नहीं रहे हैं।

बांग्‍लादेश केा अब अपने घर में जिम्‍बाब्‍वे के खिलाफ खेलना है। मीरपुर में रिपोर्ट्स से बातचीत के दौरान लिटन दास ने कहा, “पहला वनडे शतक मेरे लिए काफी खास है। पिछले कुछ समय में मैं काफी बेकफुट पर था। मेरे लिए अच्‍छा प्रदर्शन करना काफी जरूरी था। इस वक्‍त मेरा लक्ष्‍य अपनी फॉर्म को बरकरार रखने का है। जब भी मैं घरेलू क्रिकेट खेलता हूं तो मेरी फॉर्म अच्‍छी रहती है। मैं चाहता हूं कि अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में भी मैं ऐसा ही प्रदर्शन आगे जारी रखूं।”

एशिया कप से वापस देश लौटने के बाद लिटन दास ने फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट ने सबसे तेज दोहरा शतक बनाने का रिकॉर्ड भी बनाया है। उन्‍होंने इस मैच में 142 गेंद पर 203 रन बनाए। लिटन दास ने कहा, “मेरे लिए हर मैच काफी जरूरी है। एक मैच ही किसी भी खिलाड़ियों के करियर में निर्णायक साबित हो सकता है। मैं पहले अच्‍छा प्रदर्शन नहीं कर रहा था। स्‍वाभाविक तौर पर मेरी काबिलियत पर सभी को शक जरूर होगा। अच्‍छा प्रदर्शन करने के बाद मुझपर से काफी प्रेशर हल्‍का हो गया है। मुझे लगता है कि क्रिकेट  दिमांग का खेल है। अगर आप दिमागी रूप से स्‍पष्‍ट हो तो आप जरूर अच्‍छा प्रदर्शन करोगे।