Madhya Pradesh beat Mumbai in the final to win their first-ever Ranji Trophy
BCCI Domestic

मध्य प्रदेश ने 41 बार की चैंपियन मुंबई को फाइनल में हराकर रणजी ट्रॉफी 2021-22 का खिताब अपने नाम कर लिया है। मध्य प्रदेश पहली बार रणजी ट्रॉफी जीतने में कामयाब हुआ है। मध्य प्रदेश ने खिताबी मुकाबले में मुंबई की टीम को 6 विकेट से हराया।

मध्य प्रदेश की इस खिताबी जीत में कोच चंद्रकांत पंडित का बड़ा हाथ रहा जिन्होंने एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में 23 साल पहले रणजी ट्रॉफी का खिताबी मुकाबला गंवाया था लेकिन इस बार वह चैंपियन टीम का हिस्सा बनने में सफल रहे। अंतिम दिन मुंबई की टीम दूसरी पारी में 269 रन पर सिमट गई जिससे मध्य प्रदेश को 108 रन का लक्ष्य मिला जिसे टीम ने चार विकेट खोकर हासिल कर लिया।

कोच के तौर पर चंद्रकांत पंडित का ये छठा रणजी टॉफी खिताब है। इससे पहले उनकी कोचिंग में 3 बार मुंबई और 2 बार विदर्भ रणजी चैंपियन बन चुका है।

बतौर कोच चंद्रकांत पंडित के नाम रणजी ट्रॉफी 

  • 2002-03 मुंबई
  • 2003-04 मुंबई
  • 2015-16 मुंबई
  • 2017-18 विदर्भ
  • 2018-19 विदर्भ
  • 2021-22 मध्य प्रदेश

रणजी ट्रॉफी के इस फाइनल मुकाबले में मुंबई की टीम ने पहली पारी में 374 रनों का स्कोर खड़ा किया जिसमें सरफराज खान ने 134 रनों का योगदान दिया था। वहीं, मध्य प्रदेश पहली पारी यश दुबे (133), शुभम शर्मा (116) और रजत पाटीदार (122) के शतक के दम पर 536 रनों का विशाल स्कोर बनाने में सफल रही।

फाइनल के आखिरी दिन मुंबई की टीम दूसरी पारी में 269 रन पर सिमट गई जिससे मध्य प्रदेश को 108 रन का लक्ष्य मिला जिसे टीम ने चार विकेट गंवाकर हासिल कर लिया। इस सीजन 1000 रन बनाने से सिर्फ 18 रन दूर रहे सरफराज खान (45) और सुवेद पार्कर (51) ने मुंबई को हार से बचाने की पूरी कोशिश की लेकिन कुमार कार्तिकेय ने 4 विकेट लेकर मध्य प्रदेश की जीत के करीब पहुंचा दिया।

लक्ष्य का पीछा करते हुए मध्य प्रदेश ने हिमांशु मंत्री (37), शुभमन शर्मा (30) और रजत पाटीदार (नाबाद 30) की पारियों की बदौलत 29.5 ओवर में चार विकेट पर 108 रन बनाकर जीत दर्ज की।

(with Bhasha inputs)