रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ इंडियन प्रीमियर लीग के 39वें मैच में एक रन से हारने के साथ 12वें सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स को पहली बार लगातार दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। इसके साथ ही बैंगलुरू के खिलाफ चेन्नई की लगातार सात जीत का सिलसिला भी खत्म हुआ।

162 के लक्ष्य का पीछा करते हुए चेन्नई ने शुरुआती विकेट जल्दी खो दिए, जिसके बाद मध्य क्रम के बल्लेबाजों का काम मुश्किल हो गया। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी माना कि अगर शुरुआत में कम डॉट गेंद और कुछ अतिरिक्त बाउंड्री मिलती को चेन्नई ये मैच जीत सकती थी।

मैच प्रेसेंटेशन के दौरान कप्तान धोनी ने कहा, “मुझे लगता है कि ये अच्छा मैच था। हमने उन्हें औसत से कम स्कोर पर रोककर अच्छा काम किया लेकिन हमें शीर्ष क्रम में अच्छी बल्लेबाजी की जरूरत थी। जब आप विपक्षी टीम के अटैक को समझ लेते हैं तो आपको अपनी योजना के हिसाब से खेलना होता है। अगर आप ऊपरी क्रम में ज्यादा विकेट खो देंगे तो मध्य क्रम के बल्लेबाजों के लिए शुरुआत से ही गेंदबाजों के खिलाफ अटैक करना मुश्किल हो जाएगा।”

ये भी पढ़ें:  धोनी की धमाकेदार पारी के बावजूद एक रन से हारा चेन्नई

कैप्टन कूल ने आगे कहा, “हमें बहुत सावधानी से वो जगह चुननी होगी जहां हम रिस्क उठा सकते हों। आखिर में ये काम मुश्किल होगा। पिच थोड़ी स्पंजी थी और नए बल्लेबाजों को मुश्किल हो रही थी। बाउंड्री की जरूरत थी और हां हम केवल एक रन से हारे हैं लेकिन उसी समय पर हमें ये देखना होगा कि अगर कुछ डॉट गेंदे कम रहती या फिर हम कुछ अतिरिक्त बाउंड्री हासिल कर सकते थे या नहीं।”

ये भी पढ़ें: आईपीएल में 200 छक्के पूरे करने वाले पहले भारतीय बने महेंद्र सिंह धोनी

हार के बावजूद कप्तान ने गेंदबाजी और फील्डिंग की तारीफ की। उन्होंने कहा, “हमारे पास काफी अनुभव है और मुझे नहीं लगता कि वो फील्ड पर शालीन थे। उनका अप्रोच सही था और गेंदबाजों ने अच्छा काम किया। केवल बल्लेबाजी ऐसी थी, एक बार आप अंदर जाते हैं और उस समय आपको व्यक्तिगत तौर पर सोचना होता है कि टीम को मुझसे क्या अपेक्षा है, क्या साझेदारी की जरूरत है या बड़े शॉट्स की। मैदान पर जाकर बड़े शॉट खेलने आसान है और अगर आप आउट हो भी जाते हैं तो आपको पता है कि बाकी लोग काम पूरा कर लेंगे। परेशानी तब होती है जब आप बड़ा शॉट खेले हैं और उसे पूरा नहीं कर पाते क्योंकि उससे दूसरे बल्लेबाज पर दबाव बनता है। हमें इस बारे में सोचने की जरूरत है।”

कप्तान ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि टॉप तीन बल्लेबाज फिनिशर्स बन सकते हैं, वो एक-दो बार ऐसा कर सकते हैं लेकिन जब आप 5,6 या 7 नंबर पर खेल रहे होते हैं तो आप जो भी हिसाब लगा रहे हों उसके पीछे आपको काफी सोच विचार करना पड़ेगा क्योंकि अगर आप एक और विकेट खोते हैं तो खेल उसी समय खत्म हो जाता है।”