Nick Compton says Duncan Fletcher deserves credit for shaping Indian Pace attack
duncan-fletcher © Getty Images

भारतीय तेज गेंदबाजों ने इंग्‍लैंड के खिलाफ मौजूदा सीरीज के तीसरे टेस्‍ट मैच में बेहतरीन गेंदबाजी की। इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज निक कॉम्पटन का कहना है कि डंकन फ्लेचर ने कई दिग्गजों के संन्यास लेने के बाद भारतीय क्रिकेट के मुश्किल बदलाव के दौर को संभाला है।

कॉम्‍पटन का मानना है कि वर्तमान टीम के तेज गेंदबाजी आक्रमण को दिशा देने का श्रेय फ्लेचर को मिलना चाहिए। भारतीय तेज गेंदबाजों ने ट्रेंटब्रिज में 20 में से 19 विकेट लिए। भारत ने इस मैच में इंग्लैंड को 203 रन से हराया।

कॉम्पटन ने कहा कि जिस तरह से फ्लेचर ने जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को उनके शुरुआती दौर में सही रास्ता दिखाया था उसी तरह से वर्तमान के भारतीय तेज गेंदबाजों (उमेश यादव, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार) को जिम्बाब्वे के इस सम्मानीय कोच से मिली सलाह का फायदा मिला।

‘भारतीय पेसर्स अचानक ही इस स्‍तर पर नहीं पहुंचे’

कॉम्पटन ने कहा, ‘ भारतीय तेज आक्रमण अचानक ही इस स्तर पर नहीं पहुंचा। इसमें समय लगा और इसमें धीरे-धीरे सुधार हुआ। इन सभी गेंदबाजों ने समय लिया। भारत के पास पहले इतने अधिक तेज गेंदबाज नहीं हुआ करते थे लेकिन अब उनके पास हैं। इनमें से अधिकतर कभी न कभी फ्लैचर के कोच रहते हुए खेले हैं इसलिए उन्हें श्रेय जाता है। (तेज गेंदबाजी आक्रमण को संवारने की) यह प्रक्रिया काफी पहले शुरू हो गई थी लेकिन अब जाकर वे सभी मिलकर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।’

गति से समझौता नहीं करते भारतीय पेसर्स

कॉम्पटन से पूछा गया कि अब उन्हें क्या अंतर नजर आता है, उन्होंने कहा, ‘ पूर्व से यह अंतर है कि ये तेज गेंदबाज तेजी से समझौता नहीं करते। जैसे कि जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड तेजी के साथ गेंद को मूव करने की क्षमता रखते हैं।’

(इनपुट-एजेंसी)