Ranji Trophy 2017-18, Final: Vidarbha beat Delhi by 9 wickets to win maiden title
अक्षर वाडकर © PTI

रणजी ट्रॉफी 2017-18  के फाइनल मैच में दिल्ली को 9 विकेट से मात देकर विदर्भ टीम ने पहली बार खिताब पर कब्जा किया है। मैच के चौथे दिन विदर्भ के 252 रनों की बढ़त के जवाब में दिल्ली टीम 280 पर ऑल आउट हो गई। विदर्भ को अपनी पहली रणजी ट्रॉफी जीतने के लिए केवल 29 रन बनाने थे, जिस लक्ष्य को टीम ने केवल एक विकेट खोकर हासिल कर लिया। विदर्भ के गेंदबाजों में अक्षय वाखरे ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए, वहीं आदित्य सरवटे को 3 और रजनीश गुरबानी को 2 विकेट मिले।

दिन के खेल की शुरुआत विदर्भ टीम की पारी के साथ हुई थी। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक विदर्भ ने अक्षय वाडकर के शतक की मदद से 233 रनों की बढ़त हासिल कर ली थी। हालांकि चौथे दिन वाडकर 133 के आगे एक भी रन बनाए बिना कुलवंत खेजरोलिया के ओवर में कैच आउट हो गए। यहां से सिद्धेश नरेल ने 74 रनों की पारी खेलकर टीम का स्कोर 547 तक पहुंचाया। जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली की टीम ने पहला विकेट नौवे ओवर में ही खो दिया, सलामी बल्लेबाजी कुनाल चंदेला नौवे ओवर में अक्षय वाखरे की पांचवीं गेंद पर कैच आउट होकर पवेलियन लौट गए।

टेस्ट के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज से भी बाहर हुए बेन स्टोक्स
टेस्ट के बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज से भी बाहर हुए बेन स्टोक्स

252 की बढ़त का पीछा करने उतरी दिल्ली टीम को गौतम गंभीर जैसे सीनियर खिलाड़ी से एक बड़ी पारी की जरूरत थी लेकिन गंभीर 17वें ओवर में केवल 36 रन बनाकर तेज गेंदबाज रजनीश गुरबानी का शिकार बन गए। युवा ध्रुव शौरी और नितीश राना ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए शतकीय साझेदारी बनाई। जब तक दोनों बल्लेबाज क्रीज पर थे दिल्ली टीम की उम्मीदें बंधी हुई थी लेकिन 53वें ओवर में आदित्य सरवटे ने शौरी को 62 के स्कोर पर कैच आउट कर वो उम्मीद भी खत्म कर दी। साझेदारी टूटने के बाद नितीश राणा ने चाय से ठीक पहले अपना विकेट गंवा बैठे।

विदर्भ की जीत तीसरे सेशन के बाद पूरी तरह पक्की हो गई थी। वाखरे और सरवटे ने मिलकर पुछल्ले बल्लेबाजों को निपटाया और दिल्ली की पारी को 280 पर समेटा। विदर्भ टीम की पहली खिताबी जीत उनसे केवल 29 रन दूर थी। कप्तान फैज फैजल जरूर 9 रन के स्कोर पर आउट हो गए लेकिन वसीम जाफर और संजय रामास्वामी ने विदर्भ को जीत तक पहुंचा दिया।