© Getty Images
© Getty Images

जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी के एक मुकाबले में बेहद ही दिलचस्प नजारा देखने को मिला। झारखंड के खिलाफ टीम राजस्थान ने दूसरी पारी में 10 गेंदबाजों का इस्तेमाल कर दिया। दरअसल राजस्थान और झारखंड का मैच ड्रॉ की ओर बढ़ रहा था। ऐसे में राजस्थान के कप्तान पंकज सिंह ने अपनी टीम के 10 खिलाड़ियों से गेंदबाजी करा दी। विकेटकीपर दिशांत याग्निक के अलावा सभी खिलाड़ियों ने गेंदबाजी की। पंकज सिंह ने ओपनर अमित कुमार गौतम और रॉबिन बिष्ट से भी गेंदबाजी कराई।

वैसे ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि किसी मुकाबले में कप्तान ने 10 गेंदबाज इस्तेमाल किए हों। अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में तो कप्तानों ने सभी 11 खिलाड़ियों से गेंदबाजी कराई है। 11 अगस्त 1884 को इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली बार सभी 11 खिलाड़ियों से गेंदबाजी कराई थी। 6 मार्च 1980 को ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के खिलाफ फैसलाबाद टेस्ट में सभी 11 गेंदबाज इस्तेमाल किए। 10 मई 2002 को भारतीय टीम ने भी वेस्टइंडीज के खिलाफ सभी 11 खिलाड़ियों से गेंदबाजी करा दी। ये भी पढ़ें: के एल राहुल को टीम से बाहर कर विराट कोहली ने कर दी बड़ी गलती!

राजस्थान और झारखंड का मैच ड्रॉ

राजस्थान और झारखंड के मैच की बात करें तो ये मुकाबला ड्रॉ रहा। राजस्थान ने अमित कुमार गौतम और तजिंदर सिंह के शतकों की बदौलत पहली पारी में 423 रन बनाए थे। जवाब में झारखंड की टीम पहली पारी में सिर्फ 265 रनों पर निपट गई। राजस्थान ने झारखंड को फॉलोऑन दिया और दूसरी पारी में झारखंड ने 6 विकेट पर 332 रन बनाए। पहली पारी में बढ़त के आधार पर राजस्थान को 3 अंक मिले जबकि झारखंड की टीम को सिर्फ एक अंक से ही संतोष करना पड़ा।