Ranji Trophy 2018-19: Bengal opt for turner in must-win match against Delhi
Manoj-Tiwary (IANS Photo)

मेजबान बंगाल की टीम रविवार को जब रणजी ट्रॉफी ग्रुप बी के मुकाबले में आत्मविश्वास से भरी दिल्ली से भिड़ेगी तो उसकी कोशिश अपने स्पिन गेंदबाजों की बदौलत जीत दर्ज करने पर लगी होगी।

पढ़ें: जडेजा की फिरकी में उलझे ऑस्‍ट्रेलियाई बल्‍लेबाज, बना डाले ये रिकॉर्ड

बंगाल की टीम 16 अंक से ग्रुप तालिका में चौथे स्थान पर है जबकि दिल्ली (13) पिछले दौर में मध्य प्रदेश पर 9 विकेट की जीत से 7वें स्थान पर पहुंच गई है।

ए और बी ग्रुप से मिलाकर पांच टीमें क्वार्टरफाइनल में पहुंचेंगी और इसके लिए अपनी उम्मीदें बरकरार रखने के लिए दोनों टीमों के लिए इस मैच में जीत दर्ज करना निहायती जरूरी होगा।

पढ़ें: नाइटहुड की उपाध‍ि से सम्‍मानित होंगे इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान एलिस्‍टर कुक

बंगाल ने पिछले मैचों के विपरीत इस बार टर्निंग पिच बनाने का फैसला किया ताकि दिल्ली के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी और कुलवंत खेजरोलिया को मदद नहीं मिल सके। इन्होंने पिछले सत्र में दो पारियों में 13 विकेट चटाकाकर पुणे में हुए सेमीफाइनल में पारी और 26 रन की जीत से बंगाल को बाहर कर दिया था।

इस हार को खिलाड़ी अभी भूले नहीं है जिससे उन्होंने अपने स्पिन विभाग में लेग स्पिनर प्रयास रे बर्मन को शामिल किया जिन्हें आईपीएल नीलामी में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 1.5 करोड़ रूपये में खरीदा। यह युवा खिलाड़ी पदार्पण कर सकता है और ऑफ स्पिनर आमिर गनी के साथ गेंदबाजी करेंगे।

‘तीसरे स्पिनर की जरूरत नहीं होगी’

बंगाल के कप्तान मनोज तिवारी ने कुछ भी बोलने से इनकार किया लेकिन कहा कि वे दो स्पिनरों के विकल्प के साथ उतरेंगे। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि तीसरे स्पिनर की जरूरत नहीं होगी। मेरे ख्याल से दो काफी होंगे। सच कहूं तो यह वैसी स्पिन करने वाली पिच नहीं है जिसे हम चाहते थे।’

बंगाल की टीम उम्मीद करेगी कि उनके बल्लेबाज अच्छा प्रदर्शन करें, विशेषकर संदीप चटर्जी।

दिल्‍ली के स्पिनर विकास मिश्रा ने मध्‍यप्रदेश के खिलाफ 12 विकेट लिए थे

दिल्ली के पास बाएं हाथ के स्पिनर विकास मिश्रा हैं जिन्होंने मध्य प्रदेश पर नौ विकेट की जीत में 12 विकेट चटकाए थे।

दिल्ली की बल्लेबाजी हालांकि गौतम गंभीर के संन्यास के बाद कमजोर हुई है लेकिन युवा विकेटकीपर बल्लेबाज अनुज रावत से उम्मीद लगी है जिन्होंने पिछले मैच में पहले प्रथम श्रेणी शतक जमाया था। नीतीश राणा की एमर्जिंग कप में खेलने के बाद अब बतौर कप्तान वापसी हुई है।

‘कुछ खिलाडि़यों की वापसी से मजबूत हुई है दिल्‍ली’

दिल्ली के कोच मिथुन मन्हास ने कहा कि पिछले कुछ मैचों में कुछ खिलाड़ियों की कमी खलने के बाद अब इनकी वापसी से टीम मजबूत हुई है। उन्होंने कहा, ‘हमारे ज्यादातर खिलाड़ी या तो अंडर-23 या भारत ए के लिए खेल रहे थे। पिछले मैच में सभी खिलाड़ी थे तो हमे नतीजा मिला।’

(इनपुट-एजेंसी)