टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक पर मौजूद भारतीय टीम अभी तक एक भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाई है और ये बात कोच रवि शास्त्री को काफी खटकती है क्योंकि उनके लिए विश्व खिताब जीतना एक जुनून है।

इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में भारतीय टीम के मुख्य कोच ने कहा, “मैं एक विजेता हूं। मैं 1983 में विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा था। मैं 1985 में विश्व चैंपियनशिप जीतने वाली टीम में भी था। मैं ऐसी टीम इंडिया का कोच हूं जो पिछले तीन साल से टेस्ट में नंबर एक है।”

गौरतलब है कि शास्त्री के कार्यकाल में भारतीय टीम तीन बड़े आईसीसी टूर्नामेंट (विश्व कप 2015, टी20 विश्व कप 2016, विश्व कप 2019) खेल चुकी है। हालांकि भारत तीनों में से किसी टूर्नामेंट में भी सेमीफाइनल पड़ाव से आगे पहुंचने में असफल रहा। लेकिन टीम इंडिया के सामने अभी दो बड़े टूर्नामेंट (टी20 विश्व कप 2020, चैंपियंस ट्रॉफी 2021) है। जहां पर शास्त्री एंड कंपनी हर हाल में जीत हासिल करना चाहेगी।

इंग्लैंड के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट से बाहर हुए लुंगी एनगिडी

कोच ने आगे कहा, “मुझे जीतना पसंद है। इसलिए, हां मैं ये कहूंगा कि मैं आईसीसी खिताब के पीछे हूं। मैं अपनी टीम के साथ उसका पीछा करूंगा। ये टीम भारतीय क्रिकेट के इतिहास में, विश्व क्रिकेट में सदी की सर्वश्रेष्ठ टीम के तौर पर याद की जाएगी।”

उन्होंने आगे कहा, “मैं आपको अभी बता रहा हूं किन हम उसका (आईसीसी ट्रॉफी) पीछा करेंगे और वो सोने पर सुहागा होगा। हम उसका पीछा कर रहे हैं…मैं, मेरी टीम, मैनेजमेंट सभी उसका पीछा कर रहे हैं। तो अगर आप इसे जुनून कहना चाहते हैं तो ये है, इसे याद रखें।”