Rishabh Pant: Process of learning that started in England paid off in Australia
Rishabh Pant made 76 runs in five T20I innings against New Zealand and Australia. © IANS

नॉटिंघम टेस्ट के साथ करियर की शुरुआत करने वाले भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत ने ऑस्ट्रेलिया में किए शानदार प्रदर्शन का श्रेय इंग्लैंड दौरे को दिया। पंत का मानना है कि युवा खिलाड़ियों के लिए लगातार सीखते रहना ही टीम में अपनी जगह पक्की करने और अच्छे प्रदर्शन का हथियार है।

ये भी पढ़ें: टीम में वापस आते ही अच्छा प्रदर्शन करेंगे स्मिथ, वार्नर, बैनक्रॉफ्ट: माइकल क्लार्क

पीटीआई से बातचीत में पंत ने कहा, “जब आप कम उम्र में टीम में जगह बना लेते हैं तो आपके अंदर सीखने की जितनी ज्यादा क्षमता होती है, आप मौकों का फायदा उठाने में उतने ही बेहतर होते जाते हैं। जब मैंने इंग्लैंड में शतक लगाया तो मेरा आत्मविश्वास अलग ही स्तर पर पहुंच गया। वहां से, मैंने लगातार ये सोचना शुरू किया कि कहां पर मैं और सुधार कर सकता हूं। इंग्लैंड में सीखने की प्रक्रिया ने ऑस्ट्रेलिया में मदद की।”

ये भी पढ़ें: कोहली ने शहीदों के सम्मान में अवॉर्ड समारोह को किया रद्द

रिषभ ना केवल अपनी बल्लेबाजी बल्कि विकेटकीपिंग पर भी जमकर काम कर रहे हैं, जिसमें पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज किरण मोरे उनकी मदद कर रहे हैं। पंत ने बताया, “इंग्लैंड में कीपिंग करना अलग अनुभव था। उसके बाद मैंने एनसीए में किरण सर के साथ कुछ खास चीजों पर काम किया। इसमें हाथ की पोजीशनिंग और बॉडी पोस्चर शामिल था। हर कीपर का मूवमेंट अलग-अलग होता है और मैंने इसे थोड़ा छोटा किया और ये काम कर रहा है।”

ये भी पढ़ें:  सुनील गावस्कर ने चुना विश्व कप स्क्वाड; कार्तिक सलामी बल्लेबाज, पंत बाहर

पंत की विकेटकीपिंग पर चर्चा करते हुए पूर्व क्रिकेटर मोरे ने कहा, “रिषभ का साइड मूवमेंट ज्यादा था और मैंने उससे थोड़ा सामने की तरफ खुला पोस्चर रखने की सलाह दी। ये संतुलन रखने और सिर को सीधा रखने में मदद करता है, जो महेंद्र सिंह धोनी की सफलता का रहस्य है।”