×

अपने ही खेल को समझ नहीं पाने के कारण संघर्ष कर रहे हैं रिषभ पंत: आकाश चोपड़ा

दिल्ली कैपिटल्स के लिए रिषभ पंत ने 13वें आईपीएल सीजन में खेले 12 मैचों में अब तक केवल 285 रन बनाए हैं।

मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के खिलाफ क्वालिफायर मैच में 200 रन जैसे बड़े स्कोर का पीछा करते हुए दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals) के विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत (Rishabh Pant) एक बार फिर बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। दुबई अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम में आयोजित हुए मैच में पंत मात्र 3 रन बनाकर स्पिनर क्रुणाल पांड्या (Krunal Pandya) के शिकार बने। पंत ने 13वें सीजन में खेले 12 मैचों में अब तक केवल 285 रन बनाए हैं।

पिछले दो सीजन में लगातार 400 रनों का आंकड़ा पार करने वाले पंत में खेल में क्या बदलाव आया है जो इस सीजन वो लगातार संघर्ष कर रहे हैं, इस पर पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने कहा कि ये भारतीय क्रिकेटर अपने खेल को लेकर कन्फ्यूज है।

ईएसपीएन क्रिकइंफो के अपने कॉलम में उन्होंने कहा, “पंत की बात करें तो ऐसा लग रहा है जैसे वो अपनी भूमिका और अपने खेल के प्रति अपनी जिम्मेदारी को लेकर कन्फ्यूज है। मैं यहां टीम या हालात की मांग की बात नहीं कर रहा हूं बल्कि अपनी शैली के प्रति आराम से खेलने की उसकी क्षमता की बात कर रहा हूं।”

उन्होंने लिखा, “उसके पिछले कुछ टेस्ट मैच और इस आईपीएल सीजन ने उस अनिश्चितता को सामने ला दिया है। वो गेंद को तेज मारने की क्षमता रखता है लेकिन ऐसा लग रहा है जैसे कि वो इसे लेकर निश्चित नहीं है कि ये ऐसा करने का सही समय है या नहीं।”

चोपड़ा के मुताबिक पंत अपने स्वाभाविक आक्रामक खेल से हटकर खेलने को कोशिश कर रहे हैं और ये चीज उन्हें और उनकी टीम को नुकसान पहुंचा रही है।

भारतीय कमेंटेटर ने लिखा, “इस आईपीएल में कई ऐसे मौके आए हैं जब लेग स्पिनर आए हैं और बचकर चले गए हैं। वो गेंदबाज जिन्हें वो पहले सेट नहीं होने देता था, वो इस बार उसे खामोश रखने में कामयाब रहे हैं क्योंकि उसने समय को जाने दिया और बड़े मौके का इंतजार करने का फैसला किया।”

उन्होंने आगे लिखा, “पंत पंत था क्योंकि वो खेल की दिशा की धारा को बदल सकता था लेकिन अब वो उसी धारा के साथ बहने की कोशिश कर रहा है और जब तक वो उसे बदलने के बारे में सोचता है, काफी देर हो चुकी होती है। समय आ गया है कि पंत इन सब ख्यालों को हटाए और अपने खेल के साथ और समय बिताए, और उसे समझे।”

पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने कहा, “वो वही खिलाड़ी है जिसे सब एक्स-फैक्टर समझ रहे थे, वो वही खिलाड़ी है जिसे धोनी के स्वाभाविक उत्तराधिकारी के रूप में देखा जा रहा था और वो वही खिलाड़ी है जिसने टी20 क्रिकेट में बड़ी स्ट्राइक रेट से लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है। वो वही खिलाड़ी है क्योंकि आप रातोंरात अपनी काबिलियत नहीं खोले हैं।”

उन्होंने आगे लिखा, “पंत अपने करियर की दूसरी स्टेज पर है। ये समय अपने खेल को समझने और हासिल करने का है। जितनी जल्दी वो ये कर लेगा, उसके और भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा होगा।”

trending this week