टीम इंडिया लंबे समय से सीमित ओवरों के क्रिकेट में चौथे नंबर के बल्लेबाज की तलाश कर रही थी. इस जगह पर अंबाती रायडू, विजय शंकर, रिषभ पंत और महेंद्र सिंह धोनी को आजमाया गया लेकिन इनमें से कोई भी बल्लेबाज टीम मैनेजमेंट का विश्वास नहीं जीत पाया. पिछले साल विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में हार के बाद इस क्रम पर श्रेयस अय्यर को मौका दिया गया. श्रेयस ने विंडीज के खिलाफ वापसी की.

मध्यक्रम के बल्लेबाज श्रेय को भरोसा है कि पिछले एक साल में उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन से सीमित ओवरों के क्रिकेट में भारतीय टीम में चौथे बल्लेबाजी क्रम को लेकर जारी बहस पर विराम लग गया है.

अय्यर ने अपने बल्ले से वेस्टइंडीज में प्रभावित किया लेकिन इस साल की शुरुआत में न्यूजीलैंड दौरे पर उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया और तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में भारत की 0-3 की हार के दौरान एक शतक और दो अर्धशतक के साथ शीर्ष स्कोरर रहे.

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स की इंस्टाग्राम चैट में अय्यर ने कहा, ‘अगर आप भारत के लिए एक साल तक उस स्थान पर खेल रहे हो तो मतलब आपने अपनी जगह पक्की कर ली है. इसके बारे में और सवाल नहीं पूछे जाने चाहिए.’

उस सीरीज में बनाए थे 217 रन 

अय्यर ने उस श्रृंखला में 217 रन बनाए थे जो तीन मैचों की द्विपक्षीय श्रृंखला पर चौथे नंबर पर खेलते हुए किसी भारतीय बल्लेबाज का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है.

उन्होंने कहा, ‘जब चौथे नंबर को लेकर बहस चल रही है तब चौथे नंबर पर प्रदर्शन करना और पूरी तरह से अपनी जगह पक्की कर लेना काफी संतोषजनक है.’