चमारा सिल्वा © Getty Images
चमारा सिल्वा © Getty Images

श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने पूर्व खिलाड़ी चामरा सिल्वा पर प्रथम श्रेणी मैच के दौरान खराब व्यवहार के चलते दो साल का बैन लगा दिया है। बोर्ड के मुताबिक पंडुरा क्रिकेट क्लब और कलुतरा फिजिकल कल्चर क्लब के बीच जनवरी में खेले गए मैच के दौरान खेल भावना का उल्लंघन किया गया था। बोर्ड ने दोनों टीमों के खिलाड़ियों को सजा दी है। दोनों टीमों के कप्तान चामरा सिल्वा और मनोज देशप्रिया को दो साल के लिए प्रथम श्रेणी क्रिकेट से बैन कर दिया गया है, वहीं दूसरे खिलाड़ियों और मैनेजरों पर एक साल का बैन लगाया गया है। चामरा ने श्रीलंका के लिए 11 टेस्ट, 75 वनडे और 16 टी20 मैच खेले हैं। [ये भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर नहीं, मिताली राज महिला क्रिकेटरों की आदर्श हैं: स्मृति मंधाना]

इस मैच में फिक्सिंग के आरोप भी लगे थे लेकिन श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने इससे इनकार किया है। बोर्ड द्वारा जारी किए बयान के अनुसार, “कृपया ध्यान दें कि दोनों ही टीमों को गलत व्यवहार और खेल भावना को उल्लंघन करने का दोषी पाया गया है मैच फिक्सिंग का नहीं।” बोर्ड ने मैच को रद्द कर दिया है और दोनों टीमों के अंक भी छीन लिए हैं। इस मैच के आखिरी दिन दोनों टीमों ने कुल 587 रन बनाए जबकि पहले दो दिन केवल 180 रन बनाए गए। बोर्ड ने लगातार सात महीने तक इसकी जांच कराई और आखिरकार अपना फैसला सुनाया।