क्रिकेट में टी-20 के बाद अब टी-10 लीग भी शुरू हो चुका है. इस समय ये लीग अबू धाबी में खेली जा रही है जिसमें दुनिया भर के संन्यास ले चुके खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं.

इस लीग के आने से दिग्गजों में लेकर इसपर चर्चा भी शुरू हो चुकी है. भारतीय क्रिकेटीम के के पूर्व स्पिन गेंदबाज दिलीप दोशी का कहना है कि अगर क्रिकेट मैचों को 20 ओवर से कम किया गया और टी-10 जैसे प्रारूप को बढ़ावा दिया गया तो यह इस खेल के लिए अच्छा नहीं होगा.

71 वर्षीय दोशी ने भारत के लिए 33 टेस्ट और 15  वनडे इंटरनेशनल मैच खेले हैं.

क्या कहा दोशी ने…

उन्होंने ‘टाटा लिटरेचर लाइव’ कार्यक्रम के इतर टी-10 प्रारुप के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘मेरा मानना है कि इस खेल की खूबसूरती को बनाए रखने के लिए इसे टी-20 प्रारूप से छोटा नहीं किया जाना चाहिए. एक बार जब आप इसे कम करते हैं तो आपको खेल को लेकर कुछ समझौता करना होगा . मुझे लगता है कि उस समझौते से खेल काफी प्रभावित होगा.’

इस कार्यक्रम में ऑस्ट्रेलिया के जाने-माने अंपायर साइमन टफेल और कमेंटेटर आशीस रे भी शामिल थे. दोशी ने टी-20 से प्रभावित छोटे प्रारुप को लेकर कहा कि ऐसे खिलाड़ी जिनका एक्शन खराब है वह भी मैन ऑफ द मैच बन रहे हैं.

बल्ला भांजने वाले खिलाड़ी पहचान बना रहे हैं’

उन्होंने कहा, ‘असाधारण प्रतिभा सिर्फ सही तरीके के क्रिकेट से आ सकती है. मुझे लगता है कि अधिक टी-20 और इससे छोटे प्रारूप में ऐसे खिलाड़ी मैन ऑफ द मैच बन रहे जो सिर्फ 10 गेंद खेलते हैं. खराब एक्शन वाले गेंदबाज और बल्ला भांजने वाले खिलाड़ी अपनी पहचान बना रहे हैं.’

भारतीय पेस बैटरी की जमकर तारीफ की 

दोशी ने भारतीय तेज गेंदबाजी की तिकड़ी मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा और उमेश यादव की तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘यह देखना शानदार है. भारत हमेशा स्पिनरों के लिए जाना जाता था लेकिन अब हमारे पास कुछ तेज गेंदबाज हैं जिन्हें शानदार कौशल वाले महान गेंदबाज कहा जा सकता है. यह एक अच्छा बदलाव है और मैं इसका स्वागत करता हूं.’

भारतीय गेंदबाजों ने इंदौर में खेले गए पहले टेस्ट मैच में बांग्लादेश के 14 विकेट अपने खाते में डाले थे. सीरीज का दूसरा और अंतिम टेस्ट मैच 22 नवंबर से कोलकाता में खेला जाएगा.