बांग्लादेश ने बारिश से प्रभावित फाइनल में डकवर्थ लुइस नियम के तहत भारत को 3 विकेट से हराकर पहली बार आईसीसी अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप खिताब अपने नाम किया. इस जीत में बांग्लादेश की ओर से कप्तान अकबर अली का अहम योगदान रहा जिन्होंने मिडिल ऑर्डर में आकर एंकर की भूमिका निभाई. अकबर ने नाबाद 43 रन की पारी खेली.

IPL 2020 : कोलकाता नाइटराइडर्स ने जेम्स फोस्टर को बनाया फील्डिंग कोच, सुभादीप घोष की जगह लेंगे

अकबर फाइनल में मैच जिताने वाली पारी खेलते समय अपनी बड़ी बहन के इंतकाल के सदमे से भी जूझ रहे थे. 18 साल के अकबर की बहन की 22 जनवरी को जुड़वां बच्चों को जन्म देते समय मौत हो गई थी.

बांग्लादेश के प्रमुख दैनिक ‘प्रथम आलो’ की रिपोर्ट के अनुसार खदीजा खातून के इंतकाल के बारे में अकबर को बताया नहीं गया था लेकिन बाद में उन्हें अपने भाई से इसकी जानकारी मिली. अकबर के पिता ने कहा, ‘वह अपनी बहन के सबसे करीब था. वह अकबर से बहुत प्यार करती थी.’

उन्होंने कहा, ‘हमने पहले उसे नहीं बताया. पाकिस्तान के मैच के बाद उसने फोन किया और अपने भाई से पूछा. मेरे भीतर उससे बात करने की हिम्मत नहीं थी.’

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अवॉर्ड फंक्शन में विस्फोटक ओपनर डेविड वॉर्नर और एलिस पेरी की रही धूम

खदीजा ने 18 जनवरी को ग्रुप सी में बांग्लादेश की जिम्बाब्वे पर जीत देखी थी लेकिन अपने भाई को देश का पहला विश्व कप जीतते देखने के लिए जिंदा नहीं रही. फाइनल में बांग्लादेशी कप्तान ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी के लिए बुलाया. बांग्लादेशी गेंदबाजों ने भारत को पूरे 50 ओवर भी नहीं खेलने दिए और 177 रन पर प्रियम गर्ग की कप्तानी वाली टीम को ढेर कर दिया.