विराट कोहली © PTI (File photo)
विराट कोहली © PTI (File photo)

साल 1999 में टीम इंडियाका कप्तान बनने के बाद सौरव गांगुली ने साल 2000 में आईसीसी नॉकआउट में टीम इंडिया को फाइनल में पहुंचाया। यह गांगुली की कप्तानी में टीम इंडिया का पहला आईसीसी टूर्नामेंट था। लेकिन, न्यूजीलैंड के हाथों टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा। साल 2007 में एमएस धोनी को टीम इंडिया का कप्तान बनाने के साथ ही दक्षिण अफ्रीका वर्ल्ड टी20 में खेलने के लिए भेजा गया। इस टूर्नामेंट में टीम इंडिया फाइनल में पहुंची। अंततः टूर्नामेंट के फाइनल में टीम इंडिया ने पाकिस्तान को हराया और खिताब अपने नाम कर लिया।

यह तीसरा मौका था जब टीम इंडिया के किसी कप्तान ने कप्तानी लेने के साथ ही टीम इंडिया को अपने पहले आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचाया हो। सबसे पहले यह कारनामा कपिल देव ने अपने नाम किया था। कपिल देव साल 1982 में टीम इंडिया की वनडे टीम कप्तान बने थे। इसके बाद उन्होंने अपने पहले आईसीसी टूर्नामेंट में ही साल 1983 में टीम इंडिया को वर्ल्ड कप जितवा दिया था। अब विराट कोहली, जिन्होंने साल 2017 जनवरी में टीम इंडिया की सीमित ओवरों की कप्तानी संभाली थी। उन्होंने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को अपने पहले आईसीसी टूर्नामेंट में ही फाइनल में पहुंचा दिया है। टीम इंडिया फाइनल में 18 जून को पाकिस्तान से दो-दो हाथ करेगी।

वैसे सौरव गांगुली की बात करें तो गांगुली ने अपनी कप्तानी में टीम इंडिया को दो बार चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंचाया है। एक बार उन्होंने साल 2000 में और दूसरी बार साल 2002 में टीम इंडिया को फाइनल में पहुंचाने में सफलता अर्जित की। साल 2000 में टीम इंडिया को न्यूजीलैंड से हार का सामना करना पड़ा था जबकि साल 2002 में टीम इंडिया श्रीलंका के साथ संयुक्त रूप से विजेता रही। [भारत बनाम बांग्लादेश, दूसरा सेमीफाइनल, फुल स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें…]

धोनी ने दो चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया की अगुआई की। इस दौरान टीम इंडिया ने साल 2013 चैंपियंस ट्रॉफी जीती वहीं साल 2009 चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया नॉकआउट स्टेज में हारकर बाहर हो गई थी। आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के साथ ही पहली बार विराट कोहली टीम इंडिया की अगुआई आईसीसी टूर्नामेंट में कर रहे हैं। टीम इंडिया अब रविवार को पाकिस्तान से फाइनल में भिड़ेगी।