मैदान के बाहर भी सहवाग अपने अनोखे अंदाज में जवाब देते हैं © IANS
मैदान के बाहर भी सहवाग अपने अनोखे अंदाज में जवाब देते हैं © IANS

क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद भी वीरेन्द्र सहवाग का अंदाज नहीं बदला। मैदान पर अपनी आक्रामक बल्लेबाजी से बड़बोले गेंदबाजों की बोलती बंद कर देते थे, तो अब सहवाग ट्विटर के माध्यम से पंगा लेने वालों को करारा जवाब देते हैं। इस कड़ी में सबसे ताजा नाम जुड़ा है ब्रिटिश पत्रकार पियर्स मॉर्गन का। दरअसल ब्रिटिश पत्रकार ने रियो में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों के सम्मान में देश में मनाए जा रहे जश्न पर तीखा कमेंट किया तो अपने वीरू ने ब्रिटिश पत्रकार को ऐसा करारा जवाब दिया की उनकी बोलती बंद हो गई।

रियो ओलंपिक में सिर्फ 2 पदक जीतने और उसको लेकर मनाए जा रहे जश्न पर कटाक्ष करते हुए ब्रिटिश पत्रकार ने ट्वीट किया कि 1.2 बिलियन की आबादी वाले देश में सिर्फ 2 मेडल जीतने पर इतना जश्न मनाया जा रहा है, यह कितना शर्मनाक है?

विस्फोटक ओपनर ने तुरंत इस ब्रिटिश पत्रकार को सबक सीखाते हुए उनके ट्वीट का करारा जवाब दिया। सहवाग ने लिखा कि हम भारतीय छोटी-छोटी खुशियों का मजा उठाते हैं, लेकिन इंग्लैंड जिसने क्रिकेट की खोज की और आज तक एक भी विश्व कप नहीं जीत पाई, फिर भी वो विश्व कप खेल रहे हैं, क्या यह शर्मनाक नहीं है?


इसके बाद ब्रिटिश पत्रकार पियर्स मॉर्गन ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने कहा कि अगर केविन पीटरसन खेल रहे होते तो इंग्लैंड विश्व कप जरूर जीतता जैसे हमने टी20 विश्व कप जीता था और पीटरसन उसमें मैन ऑफ द सीरीज थे।


सहवाग ने फिर से पलटवार करते हुए कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि केविन पीटरसन एक लेजेंड हैं, लेकिन क्या वो साउथ अफ्रीका में पैदा नहीं हुए थे? और आपके लॉजिक के अनुसार इंग्लैंड को 2007 में विश्व कप जीतना चाहिए था।

सहवाग के इस जवाब के बाद पियर्स मॉर्गन ने उनसे और पंगे लेना उचित नहीं समझा। गौरतलब है कि रियो ओलंपिक में भारत के लिए पीवी सिंधु और साक्षी मलिक ने बैडमिंटन और कुश्ती में पदक जीता और देश इनकी जीत का जश्न मना रहा है।