Vivian Richards lambasted critics of Indian pitches; says- India has always been spin land
(Twitter)

इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के बाद माइकल वॉन और एलेस्टर कुक समेत कई पूर्व दिग्गजों ने अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम की पिच की काफी आलोचना की। हालांकि वेस्टइंडीज के दिग्गज बल्लेबाज विव रिचर्ड्स ने कहा कि भारत के दौरे पर आने पर आपको स्पिन की मददगार पिचें मिलना कोई नई बात नहीं है, इसलिए इंग्लैंड के बल्लेबाजों को इसे लेकर शिकायत करना बंद करना होगा।

रिचर्ड्स ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किए वीडियो में कहा, ‘‘मुझसे हाल में भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए दूसरे और तीसरे टेस्ट को लेकर सवाल किए गए थे। और मैं वास्तव में सवाल को लेकर थोड़ा उलझन में था क्योंकि ऐसा लगता है कि जिन पिचों पर वे खेल रहे थे उनको लेकर काफी विलाप किया गया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि जो लोग विलाप कर रहे हैं उन्हें एहसास होना चाहिए कि ऐसा समय भी होता है जबकि हमें तेज गेंदबाजों के लिए अनुकूल विकेट मिलता है। गेंद असल में गुडलेंथ से तेजी से उछाल लेती है और हर कोई तब सोचता है कि ये बल्लेबाजों से जुड़ी समस्या है।’’

पिछले दो टेस्ट मैंने सबसे मुश्किल पिचों पर खेले, मैंने पहले ऐसी पिचें नहीं देखी थीं: Ben Foakes

इस 68 साल के खिलाड़ी ने कहा कि भारत में खेलने का मतलब है कि आपको अच्छे स्पिनरों का सामना करना होगा और लगता है कि इंग्लैंड ने दौरे से पहले अच्छी तरह से तैयारियां नहीं की। रिचर्ड्स ने कहा, ‘‘लेकिन अब आप दूसरा पक्ष देख चुके हैं और इसलिए इसे टेस्ट मैच क्रिकेट नाम दिया गया है क्योंकि यहां मानसिकता और इच्छाशक्ति के साथ उन सब चीजों की भी परीक्षा होती है जिनसे प्रतिस्पर्धा के समय आप गुजरते हो।’’

उन्होंने कहा, ‘‘शिकायतें हो रही हैं कि विकेट बहुत अधिक स्पिन ले रहा था। लगता है कि लोग भूल गए हैं कि जब आप भारत दौरे पर जाते हो तो आपको ऐसी उम्मीद रखनी चाहिए। आप ऐसे देश में जा रहे हो जहां पिचें स्पिनरों को मदद करती है। आपको असल में इसके लिए खुद को तैयार करना चाहिए।’’

रिचर्ड्स ने कहा कि इंग्लैंड की सीरीज के शुरू में बड़ी जीत के बाद भारत ने उसे उसकी आरामदायक स्थिति से बाहर कर दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘पहले टेस्ट मैच से ही इंग्लैंड अपनी आरामदायक स्थिति में था। अभी उन्हें उनके इससे बाहर कर दिया गया है और उन्हें इन परिस्थितियों का सामना करने का रास्ता ढूंढना होगा। स्पिन भी खेल का हिस्सा है, टेस्ट मैच में यही सब होता है। भारतीय तेज गेंदबाजों ने पिछले कुछ सालों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। …. अब आप भारत में हैं आपको इन चीजों का सामना करना होगा और उसके लिये तरीका ढूंढना होगा।’’