World Cup 2019: People forget 10 good matches and remember only one bad match, says Rashid Khan
Rashid Khan (File Photo) @ AFP

अफगानिस्तान के स्टार स्पिनर राशिद खान ने इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप मैच में अब तक के सबसे खराब गेंदबाजी प्रदर्शन करने के बारे में कहा, ‘‘लोग दस अच्छे दिन भूल जाते हैं और एक बुरे दिन को आसानी से याद रखते हैं।’’

आलोचना की हद यह रही कि आइसलैंड क्रिकेट ने भी मजाकिया ट्वीट किया। आइसलैंड अभी क्रिकेट में नौसिखिया है। कई मैच विजेता प्रदर्शन करने के लिये प्रशंसा पाने वाले राशिद ने इंग्लैंड के खिलाफ नौ ओवर में 110 रन दिये और उन्हें कोई विकेट नहीं मिला। यह दुनिया के शीर्ष स्पिनर के लिये नया अनुभव था।

पढ़ें:- पाकिस्तान के खराब प्रदर्शन से खिलाड़ी आहत : मोहम्मद हफीज

राशिद ने भारत के खिलाफ मैच से पूर्व कहा, ‘‘मैं इस मैच के बारे में बहुत अधिक नहीं सोच रहा हूं। लोग दस अच्छे दिन भूल जाते हैं और एक बुरे दिन को आसानी से याद रखते हैं। उन्हें वह याद करना अच्छा नहीं लगता जो राशिद ने पिछले दस दिन किया था।’’

राशिद अभी वनडे में विश्व में तीसरे नंबर के गेंदबाज जबकि टी20 अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में शीर्ष पर काबिज हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं उस मैच में की गयी गलतियों पर ध्यान देकर आगामी मैचों में उनमें सुधार करने पर ध्यान दूंगा। आलोचना के बारे में सोचने का कोई फायदा नहीं। मुझे चीजों को आसान बनाये रखना होगा।’’

पढ़ें:- गुलबदिन या क्रिकेट बोर्ड के लिए नहीं, देश के लिए खेलता हूं : राशिद खान

राशिद और अफगानिस्तान के एक अन्य सुपरस्टार मोहम्मद नबी ने विश्व कप के लिये असगर अफगान की जगह गुलबदीन को कप्तान बनाये जाने पर आपत्ति जतायी थी जो कि देश के क्रिकेट बोर्ड को अच्छा नहीं लगा था।

अफगानिस्तान को लगातार पांच मैचों में हार का सामना करना पड़ा जिससे साजिश जैसी बातें भी सामने आने लगी हैं और इनमें राशिद का गुलबदीन के साथ कड़वे रिश्ते भी शामिल हैं। इससे इस स्पिनर के प्रदर्शन पर भी असर पड़ा है और उन्होंने विश्व कप में अब तक का सबसे खराब प्रदर्शन किया।

पढ़ें:- अफगानिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया कर सकती है बड़े बदलाव

राशिद ने भारत के खिलाफ मैच की पूर्व संध्या पर कहा, ‘‘गुलबदीन के साथ मेरे रिश्ते खराब नहीं हैं। मैं उसे भी उतना ही सहयोग देता हूं जैसे असगर के कप्तान रहते हुए देता था। अगर मैं असगर को मैदान पर 50 प्रतिशत सहयोग देता था तो गुलबदीन के साथ मेरा 100 प्रतिशत सहयोग है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इंग्लैंड पहुंचने के बाद किसी ने भी इस मसले पर बात नहीं की। मुझे लगता है कि मीडिया में इसे बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया। हमारे कुछ खिलाड़ी पिछले 15-16 साल से साथ में खेल रहे हैं। इसलिए अगर एक दशक से भी अधिक समय कुछ नहीं बदला तो फिर एक या दो दिन में क्या बदल सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा और नबी का ट्वीट असगर के समर्थन में नहीं था। हमने अफगानिस्तान क्रिकेट की बेहतरी के लिये आवाज उठायी थी।’’