भारतीय टीम ने एशिया कप में एक टीम की तरह खेलते हुए खिताब पर कब्जा जमाया © AFP
भारतीय टीम ने एशिया कप में एक टीम की तरह खेलते हुए खिताब पर कब्जा जमाया © AFP

भारतीय टीम ने साल 2016 के अपने जीत के सिलसिले को बरकरार रखते हुए छठी बार एशिया कप के खिताब पर कब्जा जमाया। भारतीय टीम ने एशिया कप में बिना कोई मैच हारे खिताब अपने नाम किया। फाइनल मुकाबले में भारत ने बांग्लादेश को चारों खाने चित करते हुए 8 विकेट की करारी शिकस्त दी। विराट कोहली ने फाइनल मुकाबले में एक बार फिर शानदार बल्लेबाजी की तो कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अंतिम ओवरों में बांग्लादेशी गेंदबाजों को उनकी औकात दिखाई। एशिया कप खिताब की विजेता बनी भारतीय टीम के किस खिलाड़ी ने अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया और किसने निराश किया इन सभी का लेखा जोखा हम आपको बताएंगे।

1. रोहित शर्मा(9/10):
रोहित शर्मा ने सीरीज में शानदार प्रदर्शन करते हुए भारत के लिए दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने। रोहित ने 5 मैचों में कुल 138 रन बनाये। पहले मैच में बांग्लादेश के खिलाफ 83 रन की पारी के साथ सीरीज में शानदार शुरूआत करने वाले रोहित पाकिस्तान के खिलाफ शून्य पर आउट हो गए लेकिन यूएई के खिलाफ उन्होने एक बार फिर से अपने बल्ले की ताकत दिखाई और 39 रन की पारी खेलते हुए भारत को जीत के करीब पहुंचा दिया। ALSO READ: भारत बनाम बांग्लादेश फाइनल मुकाबले का फुल स्कोरकार्ड

2. शिखर धवन(6/10):
शिखर धवन ने पूरी सीरीज में अपने प्रदर्शन से निराश किया लेकिन बांग्लादेश के खिलाफ फाइनल मुकाबले में उन्होने अपनी शानदार बल्लेबाजी से भारतीय टीम की जीत की पटकथा लिखी। फाइनल मुकाबले में धवन ने 44 गेंदों पर 60 रनों की पारी खेली। धवन ने एशिया कप के 4 मैचों में कुल 79 रन बनाए। विश्व कप से पहले धवन को अपनी निरंतरता पर काम करना होगा।

3.विराट कोहली(10/10):
विराट कोहली इस सीरीज में भारतीय टीम के सुपरस्टार रहे। टीम को जब भी जरूरत पड़ी विराट के बल्ले ने रन उगले। पाकिस्तान के खिलाफ जब टीम मुश्किल में थी तो विराट ने 49 रन की पारी खेल कर भारत की जीत को पक्का किया। श्रीलंका के खिलाफ मैच में उनके बल्ले से अर्धशतक निकला तो फाइनल में उन्होने 41 रन की पारी खेल कर टीम को जीत दिलाई। 5 मैचों में 153 रन के साथ विराट सीरीज में भारत के सबसे सफल भारतीय बल्लेबाज रहे।

4.सुरेश रैना(6/10):
सुरेश रैना को इस सीरीज में बहुत ज्यादा बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला। एशिया कप के 5 मैचों में 2 मौकों पर उनको बल्लेबाजी ही नहीं मिली। हालांकि बांग्लादेश और पाकिस्तान के खिलाफ वो अपना विकेट सस्ते में गंवा बैठे लेकिन श्रीलंका के खिलाफ उन्होने 25 रनों की पारी खेली। लेकिन रैना की सबसे बड़ी समस्या रही टिकने के बाद विकेट फेंकना और रैना को अपनी इस कमी को जल्दी ही दूर करना होगा।

5.युवराज सिंह(8/10):
क्रिकेट के चाहने वाले को इस सीरीज में एक सौगात मिली। इस सीरीज में युवराज अपने पुराने रंग में आते दिखे। पाकिस्तान के खिलाफ धीमी बल्लेबाजी कर टीम को जीत दिलाने वाले युवराज ने श्रीलंका के खिलाफ मैच में 18 गेंदों में 35 रन की पारी खेल कर दिखाया की उनमें क्रिकेट अभी भी बाकि है। यूएई के खिलाफ उन्होने एक बार फिर अपने बल्ले की ताकत दिखाई और 14 गेंदों में 25 रन ठोंक कर भारतीय टीम को जीत दिलाई। युवराज ने इस सीरीज में 5 मैच की 4 पारियों में 89 रन बनाए। इसके अलावा उनके खाते में 2 विकेट भी आए।

6.महेन्द्र सिंह धोनी(7/10):
महेन्द्र सिंह धोनी भी इस सीरीज में अपनी पुरानी फॉर्म में नजर आए। शानदार कप्तानी करते हुए धोनी ने विपक्षी टीमों को अपनी रणनीतियों से छकाया तो विकेट के पीछे उनकी फूर्ती देखने लायक थी। इस सीरीज में धोनी को बल्लेबाजी का बहुत ज्यादा मौका नहीं मिला। धोनी ने सीरीज में कुल 15 गेंदों का सामना किया जिसमें उन्होने 42 ठोंके। फाइनल मैच में बांग्लादेश के सबसे सफल गेंदबाज अल अमीन को जिस तरह छक्के बरसाये उससे उन्होने फैंस को पुराने धोनी की याद दिला दी।ALSO READ: टी20 विश्व कप 2016: सहवाग ने सेमीफाइनल में पहुंचने वाली टीमों की भविष्यवाणी की 

7. हार्दिक पांड्या(8/10):
हार्दिक पांड्या ने सीरीज दर सीरीज अपने खेल में सुधार किया है। एशिया कप में हार्दिक ने अपने खेल से प्रभावित किया। उन्होने जरूरत पड़ने पर ना सिर्फ बल्ले से रन बटोरे बल्कि गेंद से भी कमाल दिखाया। हार्दिक सीरीज में सबसे सफल भारतीय गेंदबाज रहे। उन्होने 5 मैचों में कुल 7 विकेट चटकाये। पाकिस्तान के खिलाफ 8 रन देकर 3 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी विश्लेषण रहा। इसके अलावा उन्होने 5 मैचों की 3 पारियों कुल 33 रन बनाए।

8.रविन्द्र जडेजा(6/10):
रविन्द्र जडेजा इस सीरीज में गेंद से कोई खास करिश्मा नहीं दिखा सके लेकिन उन्होने दूसरे छोर से अश्विन का साथ बखूबी निभाया। एशिया कप में जडेजा के हाथ कुल 3 सफलता लगी। बल्लेबाजी में उनको अपना जलवा दिखाने का मौका नहीं मिला। 4 मैचों में जडेजा सिर्फ 1 बार बल्लेबाजी करने मैदान में आए जिसमें उनको कोई गेंद खेलने का मौका नहीं मिला।

9.रविचन्द्रन अश्विन(7/10):
एशिया कप में भारतीय टीम की स्पिन की कमान संभालने वाले रविचन्द्रन अश्विन ने सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया। अश्विन ने 4 मैचों में 4 विकेट चटकाए लेकिन उनकी गेंदों पर विरोधी बल्लेबाज रन बनाने में नाकाम रहे। अश्विन ने अपनी गेंदों पर रन ना देकर विपक्षी टीम पर दबाव बनाया जिसका फायदा अन्य गेंदबाजों ने उठाया।

10.जसप्रीत बुमराह(9/10):
साल 2016 की खोज रहे जसप्रीत बुमराह ने एशिया कप में भी अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा। बुमराह ने 5 मैचों में कुल 6 विकेट चटकाए। बुमराह की गेंदों के सामने विपक्षी बल्लेबाज लाचार से नजर आए। बुमराह ने शुरूआती ओवरों में अपनी पेस और बाउंस से भारतीय टीम को सफलता दिलाई तो अंतिम ओवरों में उन्होने अपनी पैर कुचलने वाली यार्कर गेंदों से बल्लेबाजों को परास्त किया। एशिया कप में बुमराह ने कंजूस गेंदबाजी करते हुए प्रति ओवर 5.22 रन दिये। ALSO READ: कमाई के मामले में इस भारतीय खिलाड़ी ने धोनी और कोहली को पीछे छोड़ा

11. आशीष नेहरा(9/10):
अपनी उम्र को पीछे छोड़ते हुए आशीष नेहरा ने एक बार फिर से सीरीज में शानदार गेंदबाजी की। नेहरा ने बुमराह के साथ मिलकर विरोधी टीमों के शुरूआती बल्लेबाजों को सस्ते में समेटा और भारत को मनचाही शुरूआत दी। अंतिम ओवरों में भी नेहरा खतरनाक रहे और उन्होने अपनी यार्कर और कोण बनाती गेंदों से बल्लेबाजों को छकाया। नेहरा ने 4 मैचों में कुल 6 विकेट चटकाए।

12. भुवनेश्वर कुमार(8/10):
एशिया कप में भुवनेश्वर कुमार को सिर्फ 1 मैच खेलने का मौका मिला। भुवी ने इस मौके को दोनों हाथों से भुनाते हुए शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन किया। यूएई के खिलाफ भुवी ने 4 ओवर के कोटे में 2 मेडन डालते हुए सिर्फ 8 रन देकर 2 विकेट चटकाए। हालांकि इस शानदार प्रदर्शन के बाद भी उनको फाइनल मुकाबले में खेलने का मौका नहीं मिला।

13.हरभजन सिंह(7/10):
हरभजन सिंह को भी एशिया कप में सिर्फ 1 मैच खेलने का मौका मिला। यूएई के खिलाफ मुकाबले में हरभजन सिंह को रविचन्द्रन अश्विन की जगह मौका दिया गया। हरभजन ने किफायती गेंदबाजी करते हुए 4 ओवर के अपने कोटे में सिर्फ 11 रन देकर 1 विकेट लिया।

14.पवन नेगी(6/10):
पवन नेगी को एशिया कप में सरप्राइज पैकेज के रूप में महेन्द्र सिंह धोनी ने अपनी टीम में शामिल किया। नेगी को यूएई के खिलाफ मैच में धोनी ने अंतिम ग्यारह में स्थान दिया। नेगी ने इस मैच में 3 ओवर में 16 रन देकर 1 सफलता अर्जित की। बल्लेबाजी में नेगी को अपना जौहर दिखाने का मौका नहीं मिल सका।

15.अजिंक्य रहाणे(2/10):
अजिंक्य रहाणे को एशिया कप में बतौर सलामी बल्लेबाज एक मैच खेलने का मौका मिला। रहाणे इस मौके को भुनाने में नाकाम रहे। पाकिस्तान के खिलाफ इस मैच में रहाणे बिना कोई रन बनाए पवेलियन लौट गए।