Batting collapses in both inning cost Indian cricket team at lord’s
Cheteshwar Pujara is bowled by Stuart Broad

भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 0-2 से पिछड़ गई है। पहले बर्मिंघम और फिर लॉर्ड्स टेस्ट में टीम इंडिया की बल्लेबाजी ताश के पत्तों के की तरह ढह गई। दूसरे टेस्ट में तो टीम इंडिया के 20 बल्लेबाज मैदान पर सिर्फ 810 मिनट ही काट पाए।

बर्मिंघम में मिली करीबी हार के बाद टीम इंडिया से दूसरे टेस्ट में शानदार वापसी की उम्मीद थी। भारतीय बल्लेबाजों ने लॉर्ड्स के मैदान पर तो घुटने ही टेक दिए। पहली पारी में 107 और दूसरी में टीम के धुरंधर महज 130 रन ही जोड़ पाए।

पहली पारी में 345 मिनट टिकी टीम

लॉर्ड्स टेस्ट की पहली पारी में भारतीय टीम सिर्फ 107 रन ही बना पाई। इस दौरान छह खिलाड़ी तो दहाई के आंकड़े तक नहीं पहुंच पाए। तीन अपना खाता भी नहीं खोल पाए और पूरी टीम महज 345 मिनट ही मैदान पर टिकने का साहस दिखा पाई।

दूसरी पारी में 465 मिनट में टीम ऑलआउट

पहली पारी में खराब बल्लेबाजी के बाद दूसरी पारी में भी भारतीय टीम का प्रदर्शन वैसा ही रहा। नंबर वन टेस्ट टीम के चार खिलाड़ी शून्य पर आउट हुए और पूरी टीम ने सिर्फ 465 मिनट में इंग्लिश गेंदबाजों के आगे घुटने टेक दिए।

90 ओवर भी नहीं खेल पाई टीम

भारतीय टीम दूसरे टेस्ट की दोनों पारियों को मिलाकर भी एक दिन के खेल 90 ओवर बल्लेबाजी नहीं कर पाई। टीम इंडिया के धुरंधर पहली पारी में 35.2 जबकि दूसरी में 47 ओवर ही इंग्लैंड के गेंदबाजों का सामना कर पाए।