अजिंक्य रहाणे और विराट कोहली ने चौथे विकेट के 300 रन जोड़े © Getty Images
अजिंक्य रहाणे और विराट कोहली ने चौथे विकेट के 300 रन जोड़े © Getty Images

जैसे- जैसे समय बीत रहा है अजिंक्य रहाणे अपनी बल्लेबाजी को और भी परिवपक्व बनाते जा रहे हैं। रहाणे जिस फुर्ती से कट लगाते हैं उसी फुर्ती से कदमों का इस्तेमाल करते हुए गेंद को गेंदबाज के सिर के ऊपर से छः रनों के लिए मारते हैं। रहाणे ने इंदौर में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में अपने टेस्ट क्रिकेट जीवन का आठवां शतक जड़ा और अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी का एक और सुबूत पेश किया। रहाणे पिछले कुछ सालों से बेहतरीन फॉर्म में हैं। वह अमूमन हर सीरीज में शतक जड़ रहे हैं। उनके पिछले 8 टेस्ट सीरीजों के रिकॉर्ड पर अगर नजर दौड़ाएं तो उन्होंने लगभग हर सीरीज में शतक जड़ा है। रहाणे न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जा रही इस सीरीज के पहले दो टेस्ट मैचों में शतक नहीं जमा सके थे जिसकी कमी उन्होंने तीसरे टेस्ट मैच में पूरी कर दी। इसके पहले रहाणे ने वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई सीरीज में 108* रन बनाए थे और बेहतरीन बल्लेबाजी का सुबूत पेश किया था। भारत बनाम न्यूजीलैंड, लाइव स्कोरकार्ड पढ़ने के लिए क्लिक करें…

वहीं साल 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई सीरीज में उन्होंने एक ही टेस्ट मैच की दोनों पारियों में 127 और 100* रनों की पारी खेलकर दो शतक जड़े थे। गौर करने वाली बात है कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई इस सीरीज में बल्लेबाज बुरी तरह से जूझते नजर आए थे। लेकिन रहाणे ने अंतिम टेस्ट मैच में कमाल दिखाते हुए गेंदबाजों को हावी होने का मौका ही नहीं दिया। इसके पहले टीम इंडिया श्रीलंका टेस्ट सीरीज खेलने के लिए गई थी जिसमें रहाणे ने 126 रन बनाते हुए सीरीज में शतक अपने नामपर दर्ज करवाया था। बांग्लादेश में खेले गए एकमात्र टेस्ट मैच में रहाणे ने 98 रन बनाए थे। वहीं ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2014 सीरीज में रहाणे ने 147 और इंग्लैंड के खिलाफ 103 रनों की पारी खेली थी। पिछली बार जब टीम इंडिया न्यूजीलैंड टेस्ट सीरीज खेलने के लिए कई थी तब रहाणे ने 118 रनों की पारी खेली थी।

लेकिन रहाणे की टेस्ट क्रिकेट में शुरुआत इतनी बढ़िया नहीं हुई थी। रहाणे ने साल 2013 में फिरोजशाह कोटला में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना डेब्यू किया था। डेब्यू मैच की दोनों पारियों में ही रहाणे 7 और 1 रन बनाकर आउट हो गए थे। इसी साल जब टीम इंडिया दक्षिणअफ्रीका गई तो उन्हें टेस्ट सीरीज में मौका दिया गया। जोहान्सबर्ग में खेले गए पहले टेस्ट मैच में रहाणे ने 47 रन बनाए लेकिन दूसरी पारी में वह फिर से 15 रन बनाकर आउट हो गए। लेकिन इसके बावजूद कप्तान धोनी ने उन पर भरोसा बनाए रखा और उन्होंने डरबन टेस्ट की दोनों पारियों में 51* और 96 रनों की पारियां खेलकर सबका दिल जीत लिया। इसके बाद वह फिर नहीं रुके और अमूमन हर सीरीज में शतक जड़ा और इस तरह रहाणे टीम इंडिया में अपना स्थान पुख्ता कर चुके थे।

रहाणे ने अपने 29वें टेस्ट मैच में ही 8वां शतक जड़ा है और न्यूजीलैंड के खिलाफ यह उनका दूसरा शतक है। रहाणे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भी दो शतक जड़ चुके हैं।

भारतीय सरजमीं पर यह उनका तीसरा शतक है। रहाणे के औसत पर अगर नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि विदेशी पिचों पर उनका औसत ज्यादा है और उन्होंने शतक भी विदेशी सरजमीं पर 5 जड़े हैं। लेकिन गौर करने वाली बात है कि यह रहाणे का भारतीय सरजमीं पर आठवां टेस्ट मैच है और जैसे- जैसे वह ज्यादा मैच खेलेंगे उनका भारतीय पिचों पर रिकॉर्ड भी नखरेगा यह तो तय है।

रहाणे जब टीम इंडिया में आए थे तो उन्हें वीवीएस लक्ष्मण के उत्तारिधारी के रूप में देखा जा रहा था। जाहिर है कि वह अपनी उम्मीदों पर खरे उतर रहे हैं। रहाणे ने पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 20 टेस्ट मैच खेले हैं औ 45 से ज्यादा की औसत से रन बनाए हैं। गौर करने वाली बात है कि उन्होंने अपने 5 शतक पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए ही जड़े हैं। इन पांच में से 3 टेस्ट ड्रॉ रहे हैं और एक में टीम इंडिया को जीत मिली है। अभी एक टेस्ट मैच का निर्णय आना बाकी है।