Is Ravichandran Ashwin better than Muttiah Muralitharan, Saqlain Mushtaq and Graeme Swann
फोटो साभार: Reuters

मुथैया मुरलीधरन और ग्रीम स्वान जैसे स्पिनर्स के क्रिकेट जगत को अलविदा कहने के बाद रविचन्द्रन अश्विन ने ऑफ स्पिनर के रूप में तेजी से अपने पैर जमाये हैं। मौजूदा क्रिकेट में अगर किसी और अच्छे ऑफ स्पिनर की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया के नाथन लियोन का नाम ही सामने आता है। लेकिन लियोन भी अश्विन से बेहतर नहीं हैं ये बात हम नहीं बल्कि आंकड़े कह रहे हैं। लियोन ने अपने 200 टेस्ट विकेट लेने के लिए 55 टेस्ट का समय लिया, जबकि रविचन्द्रन अश्विन 37वें टेस्ट में 200 विकेट लेने का कारनामा अंजाम दिया। तो क्या रविचन्द्रन अश्विन को दुनिया का सबसे बेहतरीन ऑफ स्पिनर माना जा सकता है। शायद हां क्योंकि मौजूदा समय में उनसे बेहतर कोई और ऑफ स्पिनर नजर नहीं आता। लेकिन क्या उनको सबसे महान की सूची में शामिल किया जा सकता है? आइए कुछ महान ऑफ स्पिनरों के साथ अश्विन की तुलना करते हैं और जानते हैं क्या वो वाकई दुनिया के सबसे बेहतरीन ऑफ स्पिनर हैं।

अगर विश्व क्रिकेट की बात करे तो मुथैया मुरलीधरन को क्रिकेट जगत का महानतम ऑफ स्पिनर माना जाता है। इसके अलावा सकलेन मुश्ताक, ग्रीम स्वान और सईद अजमल भी दिग्गज ऑफ स्पिनर की शुमार में शामिल हैं। अगर इन दिग्गज ऑफ स्पिनरों के पहले 37 टेस्ट मैचों की समीक्षा करें तो अश्विन विकेट लेने के मामले में रविचन्द्रन अश्विन सबसे आगे हैं। पहले 37 टेस्ट में अश्विन ने जहां 200 विकेट चटका चुके हैं वहीं मुथैया मुरलीधरन ने अपने पहले 37  टेस्ट में 160 विकेट, सकलेन मुश्ताक ने 158 विकेट और ग्रीम स्वान ने 157 विकेट चटकाए थे

Is Ravichandran Ashwin better than Muttiah Muralitharan, Saqlain Mushtaq and Graeme Swann
फोटो साभार: Reuters

अश्विन सिर्फ विकेट लेने के मामले में ही नहीं विकेट लेने के औसत और स्ट्राइक रेट में भी सबसे आगे हैं। इसके अलावा वो अपने पहले 37 टेस्ट मैचों में 5 विकेट और 10 विकेट लेने के मामले में भी सबको पीछे छोड़ते हैं। अश्विन ने जहां पहले 37 टेस्ट मैचों में 18 बार 5 विकेट चटकाए हैं तो सकलेन मुश्ताक ने अपने पहले 37 टेस्ट में 12 बार 5 विकेट लेने का कारनामा किया। स्वान और मुरलीधरन ने अपने पहले 37 टेस्ट मैचों में 11-11 बार 5 विकेट लेने का कारनामा अंजाम दिया। [Also Read: रविचन्द्रन अश्विन ने रचा इतिहास, पूरे किये टेस्ट क्रिकेट में 200 विकेट]

एक टेस्ट में 10 विकेट लेने वाले के मामले में भी अश्विन सबको पीछे छोड़ देते हैं। अश्विन अब तक टेस्ट क्रिकेट में 4 बार 10 या उससे ज्यादा विकेट चटका चुके हैं। जबकि अपने पहले 37 टेस्ट में सकलेन ने 2 बार, मुरलीधरन और स्वान ने सिर्फ 1-1 बार एक टेस्ट में 10 या उससे ज्यादा विकेट चटकाने का कारनामा अंजाम दिया था।

Player Match Inn Wickets BBI BBM Avg Eco SR 5 10
रविचन्द्रन अश्विन 37 68 200 7/66 12/85 25.08 2.93 51.3 18 4
मुथैया मुरलीधरन 37 54 160 7/94 12/117 29.44 2.54 69.4 11 1
सकलेन मुश्ताक 37 66 158 8/164 10/187 28.25 2.49 69.2 12 2
ग्रीम स्वान 37 67 157 6/65 10/217 28.77 2.98 57.8 11 1

इसके अलावा अश्विन एक मैच विनर खिलाड़ी भी हैं। जिस भी सीरीज में चलते हैं विरोधी टीम पर पूरी तरह हावी हो जाते हैं। इस बात का सबूत इतने छोटे से करियर में 6 मैन ऑफ द सीरीज का अवॉर्ड है। अभी तक सिर्फ 37 टेस्ट खेलने वाले अश्विन मैन ऑफ द मैच जीतने के मामले में सचिन तेंदुलकर और वीरेंदर सहवाग जैसे दिग्गजों को पीछे छोड़ चुके हैं। जबकि सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर में 200 टेस्ट मैच खेले तो वीरेन्द्र सहवाग ने 104 टेस्ट मैच खेले और अश्विन सिर्फ 37 टेस्ट मैचों में इन दिग्गजों से आगे निकल चुके हैं।  [Also Read: सबसे ज्यादा मैन ऑफ द सीरीज जीतने वाले भारतीय खिलाड़ी]

Is Ravichandran Ashwin better than Muttiah Muralitharan, Saqlain Mushtaq and Graeme Swann
फोटो साभार: BCCI

कुल मिलाकर देखें तो 37टेस्ट के अपने करियर में रविचन्द्रन अश्विन ने बहुत से दिग्गजों को पीछे छोड़ते हुए वर्तमान दौर के सबसे सफल स्पिनर का मुकाम हासिल किया है, लेकिन महानत स्पिनर बनने के लिए उन्हे विदेशी पिचों पर भी उसी तरह का प्रदर्शन करना पड़ेगा जैसा उन्होंने भारतीय पिचों पर किया है। हां अपने प्रदर्शन के दम पर अश्विन विश्व क्रिकेट के महानतम ऑफ स्पिनर बनने का दावा जरूर प्रस्तुत करते हैं। जरूरत है इसी प्रदर्शन को लंबे समय तक बरकरार रखने की ताकि वो क्रिकेट इतिहास के सबसे बेहतरीन ऑफ स्पिनर का मुकाम हासिल कर सके।