On Virat Kohli’s 29th birthday day here is some interesting facts about Indian Captain
भारतीय कप्तान आज अपना 29वां जन्मदिन मना रहे हैं © Getty Images

आज जन्मदिन है भारत के साथ दुनिया के सबसे कामयाब बल्लेबाज और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का। 5 नवंबर 1988 को पैदा हुए कोहली आज 29 साल के हो गए है और इसी के साथ भारतीय टीम में उन्होंने अपने 9 साल भी पूरे कर लिए हैं। कोहली मौजूदा समय में विश्व के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज और एक कामयाब कप्तान है। कोहली ने अपने इस छोटे से करियर में बहुत से मुकाम हासिल किए हैं साथ ही कई रिकॉर्ड बनाएं हैं। कोहली के जन्मदिन पर आज हम आपको बताने जा रहे है उनसे जुड़ी कुछ ऐसी बातें जो शायद आपको नहीं पता होंगी। तो आइए जानते हैं आपके पसंदीदा क्रिकेटर के जिन्दगी के कुछ अनसुने किस्से।

आज कोहली भले ही दुनिया के सबसे सफल बल्लेबाज हो पर एक समय ऐसा था जब वह अपने करियर को लेकर संघर्ष कर रहे थे और उस समय उन्होंने अपनी जिन्दगी में बहुत कुछ खोया। साल 2006 में जब कोहली रणजी ट्रॉफी में कर्नाटका के खिलाफ डेब्यू मैच खेलने वाले थे उसी दिन उनके पिता का देहांत हो गया था। कोहली ने इसके बाद भी अपनी टीम के लिए मैच खेला और शानदार बल्लेबाजी करते हुए 90 रन बनाए। कोहली के लिए वह दिन कैसा रहा यह तो सिर्फ वही जानते हैं पर जो उन्होंने कर दिखाया वह किसी के लिए भी आसान नही था। शायद कोहली उस दिन अपने पिता के लिए ही खेल रहे थे।

शतकवीर: कोहली ने अपने करियर की शुरूआत से ही कई रिकॉर्ड बनाए और तोड़े हैं, उनमे से एक रिकॉर्ड हैं सबसे ज्यादा शतक बनाने का। कोहली ने अपने वनडे करियर में अब तक 32 शतक जड़े हैं। वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक शतक लगाने के मामले में कोहली केवल सचिन तेंदुलकर (49) से पीछे हैं। साथ ही कोहली इस सूची में क्रिस गेल के अलावा अकेले ऐसे खिलाड़ी हैं जो अब तक खेल रहे हैं। यानि कि आने वाले समय में कोहली सचिन से आगे निकल सकते हैं।  कोहली ने ये मुकाम केवल 29 साल की उम्र में हासिल किया है और सचिन का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए उनके पास काफी समय हैं। इस लिहाज से यह मुमकिन है कि आने वाले समय में कोहली के नाम वनडे में सबसे ज्यादा शतक लगाने का रिकॉर्ड हो।

सचिन तेंदुलकर की बराबरी: कोहली ने वनडे में कुल 32 शतक लगाए हैं और वह भी सिर्फ 202 मैचों में। विराट कोहली ने अपने 31 वनडे शतक तक पहुंचने के लिए केवल 192 पारियों का इस्तेमाल किया है। जबकि सचिन तेंदुलकर ने 271 वनडे पारियों के बाद 31 वनडे शतक पूरे किए थे। हालांकि तेंदुलकर के नाम घरेलू मैदान पर सबसे ज्यादा 20 शतक लगाने का रिकॉर्ड है।  इस मामले में कोहली 13 शतक लगातक रिकी पॉन्टिंग और हाशिम आमला के साथ संयुक्त रूप से दूसरे नंबर पर आ गए हैं। जल्द ही वह सचिन का ये रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लेंगे।

सफल कप्तान: कोहली के नाम बतौर कप्तान वनडे में सबसे तेज 5,000 अंतर्राष्ट्रीय रन बनाने का रिकॉर्ड हैं। कोहली ने केवल 93 पारियों में ये कारनामा किया है। ये साल कोहली के लिए काफी खास रहा है, 2017 में कोहली एक साल में सबसे ज्यादा वनडे रन बनाने वाले कप्तान बन गए हैं। कोहली से पहले ये रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग के नाम था। जिन्होंने साल 2007 में 1424 वनडे रन बनाए थे और विराट ने 2017 में 26 मैचों में 1460 रन बनाकर इस आंकड़े को पार कर लिया। एक साल में बतौर कप्तान सबसे ज्यादा शतक बनाने के मामले में कोहली तीसरे स्थान पर हैं।

रिकॉर्ड तोड़ पारियां: कोहली अपने करियर की शुरूआत से ही एक बेहतरीन खिलाड़ी के रूप में उभरने लगे थे। कोहली में कप्तान की सभी खूबियां मौजूद है यह उन्होंने 2008 में अंडर-19 विश्व कप जीतकर साबित कर दिया। इसी के बाद उन्होंने भारतीय टीम में अपना डेब्यू किया और अपने पहले विश्व कप में ही शतक लगाने वाले वह पहले बल्लेबाज बने। 2011 विश्व कप के पहले ही मैच मे बांग्लादेश के खिलाफ कोहली ने नाबाद 100 रन बनाए थे। कोहली के नाम वनडे में सबसे तेज शतक लगाने का रिकॉर्ड भी है। 2013 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मैच में कोहली ने केवल 52 गेंदो पर 100 रन बना दिए।

सबसे स्टाइलिश खिलाड़ी: कोहली के खेल के अलावा उनके स्टाइल के लिए भी उनके कई फैन्स हैं। कोहली हमेशा ही अपने कपड़ो और स्टाइलिंग सेंस के लिए जाने जाते है। साल 2012 में कोहली को विश्व के वेल ड्रेस्ड खिलाड़ियों की सूची में टॉप दस में जगह दी गई थी। हाल ही में कोहली ने अपना खुद का फैशन ब्रांड ‘रॉंग’ खोला है। वहीं कोहली ने अपने शरीर पर कई टैटू भी बनवाए हैं। कोहली के बाएं कंधे पर एक जापानी समुराई योद्धा का टैटू है जो नैतिक व्यवहार और अनुशासन का प्रतीक माना जाता है। वहीं कोहली के दाएं हाथ पर उनके राशि वृश्चिक का टैटू है। उसके साथ दाएं हाथ पर ही कोहली ने चाइनीज शब्द का टैटू करवाया है जिसका मतलब होता है विश्वास। कोहली का मानना है कि इन सभी चिन्हों से वह खुद को जोड़कर देखते है। उनके टैटू उनके व्यक्तित्व को दर्शाते हैं।