AB de Villiers: Cricket South Africa has asked me to lead Proteas once again

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज एबी डीविलियर्स संन्यास तोड़कर फिर से इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी करना चाहते हैं। हालांकि इसके लिए डीविलियर्स ने खुद के लिए एक शर्त भी रखा है। डीविलियर्स का कहना है कि जब उन्हें लगेगा कि वह अपने बेहतरीन फॉर्म में हैं तब वह टीम में वापसी कर सकते हैं। इस पूर्व बल्लेबाज ने खुलासा किया है कि क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) उनसे फिर से कप्तान बनाए जाने के बारे में पूछ चुका है।

B’day Special: बीमार होने के बावजूद इस भारतीय पेसर ने टीम इंडिया को दिलाया था ‘सुपर सिक्स’ का टिकट

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (CSA) ने एबी डीविलियर्स को फिर से राष्ट्रीय टीम की कमान संभालने के बारे में पूछा था लेकिन वह राष्ट्रीय टीम में तभी वापसी करना चाहते हैं जब वह अपनी शीर्ष फॉर्म में हों।

मई 2018 में क्रिकेट को कहा था अलविदा 

विस्फोटक बल्लेबाज डीविलियर्स ने मई 2018 में सभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट प्रारूपों से संन्यास लेने की घोषणा की थी लेकिन पिछले कुछ दिनों से राष्ट्रीय टीम में उनकी वापसी की खबरें आ रही हैं।

36 वर्षीय डीविलियर्स ने स्टार स्पोर्ट्स शो ‘क्रिकेट कनेक्टिड’ में कहा, ‘मेरी इच्छा है कि मैं दक्षिण अफ्रीका के लिए खेलूं और क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका मुझे फिर से टीम की अगुआई करने के बारे में पूछ चुका है।’

‘मेरे लिए सबसे अहम चीज है ये’

उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए सबसे अहम चीज यह है कि मुझे अपनी शीर्ष फॉर्म में होना होगा और साथ ही मेरे साथ में जो खिलाड़ी है, मुझे उससे बेहतर होना होगा। अगर मुझे लगता है कि मैं टीम में जगह बनाने का हकदार हूं तो यह मेरे लिए आसान हो जाएगा क्योंकि इससे मैं महसूस करूंगा कि मुझे अंतिम एकादश का हिस्सा होना चाहिए।’

कामरान अकमल को क्यों याद आए सचिन तेंदुलकर, MS Dhoni और विराट कोहली, जानिए पूरी डिटेल

डीविलियर्स ने कहा, ‘मैं इतने समय से टीम का हिस्सा नहीं हूं और मुझे लगता है कि यह मेरे और अन्य लोगों के लिए भी महत्वपूर्ण है कि मैं अब भी इतना अच्छा खेलता हूं कि टीम में जगह बना सकूं।’

114 टेस्ट खेल चुके हैं डीविलियर्स 

दक्षिण अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट, 228 वनडे और 78 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके पूर्व कप्तान ने कहा कि वह तभी वापसी करेंगे जब उन्हें लगेगा कि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए अच्छे हैं, हालांकि वह फ्रेंचाइजी टीमों के लिए लगातार खेलते रहे हैं।