जम्मू कश्मीर के प्रतिभाशाली क्रिकेटर अब्दुल समद (Abdul Samad) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) तक पहुंचने का श्रेय पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज इरफान पठान (Irfan Pathan) को दिया है। अपनी घरेलू टीम बड़ौदा को छोड़कर इरफान जम्मू कश्मीर क्रिकेट के लिए पिछले कई सालों से काम कर रहे हैं। इस दौरान वो कई क्रिकेटरों का मार्गदर्शन कर रहे हैं और उन्हें जरूरी और उपयोगी टिप्स भी दे रहे हैं।

अब्दुल ने इंडिया टीवी से कहा, “हमारे यहां साइन्स (विज्ञान) कॉलेज में इरफान पठान ने ट्रायल करवाया था। जिसमें कई खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया और मुझे इरफान भाई ने जम्मू कश्मीर राज्य की क्रिकेट टीम के लिए चुना था।”

अब्दुल को आमतौर पर विस्फोटक बल्लेबाज के रूप में जाना जाता है, लेकिन वो एक लेग स्पिनर भी हैं। अपने करियर की शुरुआती दौर में वो गेंद को अधिक से अधिक बाउंड्री पार भेजने के चक्कर में 30 से 35 रन बनाकर आउट हो जाते थे। लेकिन इरफान के टिप्स ने उन्हें काफी मदद किया।

उन्होंने कहा, “इरफान भाई जब मिले तो उन्होंने मुझसे कहा कि तुम 30-35 रन बनाकर आउट हो जाते हो, इस पर काम करो तो तुम शतक भी लगा सकते हो। एक समय, मैं घरेलू वनडे टूर्नामेंट खेल रहा था तो शुरू के दो-तीन मैच में जल्दी आउट हो गया था। उसके बाद इरफान भाई ने काफी कुछ समझाया। इतना ही नहीं हार्ड हिटिंग बल्लेबाजी के बारे में काफी बातें की जिसके चलते मैं खुद में सुधार लेकर आया।”

अब्दुल ने घरेलू क्रिकेट में 11 टी 20 मैचों में अब तक 240 रन बनाए हैं। उन्होंने लिस्ट ए वनडे क्रिकेट में आठ मैचों में 237 रन बनाए हैं। अब्दुल को आईपीएल 2020 की नीलामी में पूर्व चैंपियन सनराइजर्स हैदराबाद ने 20 लाख रुपये में खरीदा था।

इस बार आईपीएल में अपनी प्रतिभा को दिखाने के लिए तैयार था, लेकिन कोरोनावायरस ने उनके सपने अभी पूरा नहीं होने दिया। बीसीसीआई ने आईपीएल को अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित कर रखा है।

उन्होंने कहा, “हां, थोड़ा निराश हूं क्योंकि ये मेरा पहला आईपीएल था और मैं अपना बेस्ट देना चाहता था। हमारी टीम में काफी बेहतरीन खिलाड़ी हैं लेकिन अब जब भी आईपीएल होगा तो मैं राशिद खान से मिलना चाहूंगा और उनसे लेग स्पिन के बारे में काफी बात करूंगा।”