Australia vs India: D’Arcy Short called up in T20 squad as a replacement for injured David Warner
डार्सी शॉर्ट (Getty images)

भारत के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में स्टार सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर के चोटिल होने के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने आगामी टी20 सीरीज के लिए डार्सी शॉर्ट को स्क्वाड में जगह दी है।

रविवार को खेले गए दूसरे मैच के दौरान फील्डिंग करते हुए वार्नर को ग्रोइन इंजरी की समस्या हुई, जिसकी वजह से उन्हें आखिरी वनडे और तीन मैचों की टी20 सीरीज से बाहर कर दिया गया है। ताकि वार्नर 17 दिसंबर से शुरू हो रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए तैयार रह सकें।

टी20 सीरीज में वार्नर की जगह विस्फोटक बल्लेबाज डार्सी शॉर्ट ऑस्ट्रेलिया के लिए पारी की शुरुआत कर सकते हैं। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया और बिग बैश लीग में सलामी बल्लेबाजी की है। वहीं साल 2017-18 और 2018-19 में वो बीबीएल के सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी रहे थे।

सीमित ओवर फॉर्मेट मैचों से बाहर हुए पैट कमिंस

शॉर्ट के चयन के साथ साथ क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने ये भी ऐलान किया है कि तेज गेंदबाज पैट कमिंस भारत के खिलाफ आगामी सीमित ओवर फॉर्मेट मैचों में हिस्सा नहीं लेंगे। टेस्ट सीरीज शुरू होने से पहले अपने प्रमुख तेज गेंदबाज का वर्कलोड मैनेज करने के इरादे से सीए ने ये फैसला लिया है।

भारत vs ऑस्ट्रेलिया: धाकड़ डेविड वॉर्नर वनडे-T20i सीरीज से बाहर, टेस्ट सीरीज में भी खेलना मुश्किल

कमिंस की गैर मौजूदगी में पेस अटैक का जिम्मा मिशेल स्टार्क और जॉश हेजलवुड पर होगा। हेजलवुड ने जहां अभी तक खेले गए दोनों मैचों में अच्छी गेंदबाजी की है, वहीं स्टार्क लय पकड़ने में संघर्ष करते दिख रहे हैं।

मेजबान टीम अब भारत के खिलाफ बाकी सीमित ओवर फॉर्मेट मैचों वार्नर और कमिंस के बिना खेलेगी। जिससे कोच जस्टिंन लैंगर बिल्कुल चिंतित नहीं है क्योंकि वो अपने प्रमुख खिलाड़ियों को टेस्ट सीरीज के लिए तरोताजा चाहते हैं जो कि उनकी प्राथमिकता है।

लैंगर ने कहा, “पैट और डेवी टेस्ट सीरीज की हमारी योजना के लिए अहम हैं। डेवी रीहैब के दौरान अपनी इंजरी पर काम करेंगे और पैट के मामले में ये जरूरी है कि हमारे सारे खिलाड़ियों को अच्छे से मैनेज किया जाए ताकि वो इस चुनौतीपूर्ण सीजन के लिए मानसिक और शारिरिक तौर पर फिट रहें।”

कोच ने आगे कहा, “दोनों के लिए प्राथमिकता हमारी सबसे बड़ी और सबसे महत्वपूर्ण घरेलू टेस्ट सीरीज के लिए पूरी तरह से तैयार होना है, खासकर जब इसके जरिए विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिए अंक हासिल किए जा सकते हैं।”