ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एशेज सीरीज (Ashes Series 2021-22) के लिए इंग्लैंड की हालत खस्ता है. टीम पहले 3 टेस्ट हारकर सीरीज ही गंवा बैठी, जबकि चौथे टेस्ट को उसने ड्रॉ खेल लिया. इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने इस हार के कारण तलाशने शुरू कर दिए हैं. इन कारणों में एक फैक्टर आईपीएल को माना जा रहा है. अभी तक जो खबरें सामने आ रही हैं उसमें इंग्लैंड अपनी टेस्ट क्रिकेट को बचाए रखने के लिए अपने खिलाड़ियों की आईपीएल में एंट्री पर पाबंदियां बढ़ा देगा.

लगातार तीन टेस्ट में हार के बाद ईसीबी के मैनेजिंग डायरेक्टर एश्ले जाइल्स (Ashley Giles) ने कहा था कि इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड इस हार की बारीकी से समीक्षा करेगा. मिरर.को.यूके की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड भविष्य में अपनी टेस्ट क्रिकेट में सुधार के मकसद से इस आइडिया पर विचार कर रहा है कि वह अपने खिलाड़ियों को आईपीएल में भाग लेने संबंधी पाबंदियों को बढ़ा दे.

इंग्लैंड को साल 2022 की गर्मियों में न्यूजीलैंड के खिलाफ जून में टेस्ट सीरीज खेलनी है. ऐसे में आईपीएल 2022 (IPL 2022) अपने अंतिम छोर पर होगा और तब इसमें नॉकआउट स्टेज के मैच चल रहे होंगे. ऐसे में इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड के पहले टेस्ट मैच की तारीखे एक-दूसरे को क्लैश कर सकती हैं.

आईपीएल में इंग्लैंड के कई बड़े खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं. बेन स्टोक्स, जोस बटलर, जॉनी बेयरस्टो, सैम करन, जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं. ये सभी खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट भी खेलते हैं. ऐसे में ईसीबी अपने खिलाड़ियों को यह बोल सकता है कि वे आईपीएल में अपना कम से कम समय दें और न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने से पहले घरेलू क्रिकेट खेलकर उस सीरीज के लिए खुद को तैयार करें.