एशेज सीरीज में सीनियर तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड (Josh Hazlewood) के चोटिल होने के बाद स्कॉट बोलैंड (Scott Boland) को मौका मिला तो उन्होंने इसे हाथों हाथ लेकर कमाल कर दिया. बौलेंड एक बार टीम में आए तो फिर कंगारू टीम मैनेजमेंट ने उनका दमदार प्रदर्शन देखकर उन्हें अंतिम तीनों टेस्ट मैच में खिलाया और 32 वर्षीय यह तेज गेंदबाज इंग्लैंड टीम के लिए लगातार खतरनाक होता चला गया. अब तक खेले सिर्फ 3 टेस्ट में उन्होंने 18 विकेट अपने नाम किए, जिसमें 7 रन देकर 6 विकेट उनका सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन है. बौलेंड को इस दमदार परफॉर्मेंस के बाद अब काउंटी क्रिकेट खेलने के धड़ाधड़ ऑफर मिल रहे हैं.

32 वर्षीय इस तेज गेंदबाज को कथित तौर पर कई काउंटी टीमों से ‘कॉल’ मिल रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट खेलने वाले जेसन गिलेस्पी (Jasson Gillespie) के बाद स्वदेशी मूल के दूसरे पुरुष क्रिकेटर, बोलैंड ने तीन एशेज खेलों में 9.55 की औसत से 18 विकेट लिए.

32 वर्षीय का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन एमसीजी में बॉक्सिंग डे टेस्ट के दौरान आया, जहां उन्होंने डेब्यू पर सिर्फ सात रन पर इंग्लैंड के छह विकेट लिए, क्योंकि मेजबान टीम ने जो रूट की अगुवाई वाली टीम को एक पारी और 14 रनों से हरा दिया था.

हालांकि, बोलैंड ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं है कि वह इंग्लैंड में अगला सीजन खेलेंगे. ऑस्ट्रेलिया को इस साल पाकिस्तान, श्रीलंका और भारत में तीन महत्वपूर्ण सीरीज खेलनी हैं. बोलैंड ने सेन.कॉम.एयू के हवाले से सोमवार को कहा, ‘मैंने दूसरे दिन अपने मैनेजर से बात की. उन्होंने कहा कि उनके पास काउंटी क्लबों से कुछ कॉल आए हैं.’

‘मुझे यकीन नहीं है कि मैं वहां जाऊंगा. अगर मुझे पाकिस्तान जाने के लिए चुना जाता है, तो मुझे लगता है कि यह टूर्नामेंट सर्दियों में खेला जाएगा. हम इंतजार करेंगे और देखेंगे कि वहां क्या होता है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं टूर्नामेंट के लिए जॉर्ज बेली (क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य चयनकर्ता) के साथ बातचीत करूंगा कि वे अगले कुछ वर्षो में मेरा भविष्य कहां देखते हैं.’ ऑस्ट्रेलिया ने होबार्ट में 5वें और अंतिम टेस्ट में इंग्लैंड को 146 रनों से हराकर एशेज सीरीज में 4-0 से जीत दर्ज की.

(इनपुट: आईएएनएस)