Dale Steyn: Learned something in every moment on the field Shaun Pollock
Dale Steyn © Getty Images

दक्षिण अफ्रीका के लिए टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में शॉन पोलाक को पीछे छोड़ने वाले तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने कहा है कि उन्होंने पूर्व कप्तान के साथ जब भी मैदान पर कदम रखा हर पल कुछ न कुछ जरूर सीखा।

स्टेन ने सुपर स्पोर्ट पार्क मैदान पर पाकिस्तान के खिलाफ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन एक विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका के लिए टेस्ट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकार्ड अपने नाम किया। स्टेन ने चैनल सुपर स्पोर्ट से बातचीत में कहा, “मैं जब भी उनके साथ रहा, कुछ न कुछ सीखा। जो नौ टेस्ट हमने साथ खेले हैं, उनमें उन्होंने मुझे काफी कुछ सिखाया। खासकर सफेद गेंद से पोलाक को गेंदबाजी करते हुए मैंने बहुत कुछ सीखा।”

स्टेन बने दक्षिण अफ्रीका से सबसे सफल टेस्ट गेंदबाज

स्टेन ने हंसते हुए कहा, “वो पहले तीन-चार मैचों में एक तरह से मेरे जूतों के स्पांसर थे। पहले तीन और चार मैचों में उन्होंने मुझे जूते दिए थे। बिफ (ग्रीम स्मिथ) के अलावा अन्य सीनियर खिलाड़ियों ने मुझे एक क्रिकेट खिलाड़ी के तौर पर उभरने में मदद की, साथ ही मुझे एक अच्छा इंसान भी बनाया।”

स्टेन का करियर चोटों से काफी प्रभावित रहा है। उन्होंने इस साल भारत के खिलाफ चोट से वापसी की थी, लेकिन इसी सीरीज में वो दोबारा चोटिल हो गए थे। भारत के खिलाफ खेली गई सीरीज के बाद वो पाकिस्तान के खिलाफ वापसी करने में सफल रहे और आखिरकार पोलक से आगे निकल गए।

इंग्लैंड, आयरलैंड में रन बनाने से आत्मविश्वास बढ़ा : बाबर आजम

उल्लेखनीय है कि स्टेन ने 89वां टेस्ट मैच खेलते हुए 422 विकेट अपने नाम किए हैं जबकि पोलाक ने 108 टेस्ट मैचों में 421 विकेट चटकाए हैं। स्टेन ने 26 बार पारी में पांच विकेट और पांच बार मैच में 10 विकेट लिए हैं। पोलाक 16 बार पारी में पांच विकेट ले चुके हैं तथा एक बार मैच में 10 विकेट लिए हैं।

इस तरह स्टेन दक्षिण अफ्रीका के सफलतम टेस्ट गेंदबाज बनने के अलावा विश्व क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में 11वें स्थान पर हैं। स्टेन टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लेने वाले तेज गेंदबाजों की सूची में सातवें स्थान पर हैं।

स्टेन से ऊपर न्यूूजीलैंड के रिचर्ड हेडली (431), इंग्लैंड के स्टुअर्ट ब्रॉड (433), भारत के कपिल देव (434), वेस्टइंडीज के कर्टले वॉल्श (519), आस्ट्रेलिया के ग्लेन मैक्ग्राथ (563), इंग्लैंड के जेम्स एंडरसन (565), भारत के अनिल कुम्बले (619), आस्ट्रेलिा के शेन वॉर्न (708) और श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (800) हैं।