पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज आकिब जावेद (Aaqib Javed) भी भारत की टी20 लीग इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League) से प्रभावित हैं. जावेद ने कहा कि इन दिनों इस लीग में खिलाड़ियों को इतना पैसा मिल रहा है कि उन्हें नेशनल ड्यूटी पर रोकना मुश्किल हो गया है.

पाकिस्तान की टीम इन दिनों साउथ अफ्रीका दौरे पर है और साउथ अफ्रीकी टीम के सभी प्रमुख खिलाड़ी अपनी घरेलू सीरीज छोड़कर भारत में हो रही इस टी20 लीग (IPL 2021) में खेलने आ चुके हैं, जिसके बाद एक बार फिर यह बहस छिड़ गई है खिलाड़ियों के लिए ‘राष्ट्र या लीग’ में प्राथमिकता किसे मिलनी चाहिए.

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि ‘आईपीएल बहुत मजबूत है और इसके साथ ही भारत (बीसीसीआई) भी. इसका मतलह यह है कि अगर अन्य बोर्ड को अपने खिलाड़ियों को वहां जाने से रोकना है तो तब उन्हें उन्हें काफी पैसा देना होगा, जो काफी मुश्किल है.’

इस पूर्व स्टार खिलाड़ी ने क्रिकेट पाकिस्तान से बात करते हुए आगे कहा, ‘आईपीएल में खेलकर खिलाड़ी करीब 15 लाख डॉलर कमाते हैं वह भी सिर्फ डेढ़ महीने में. इसका मतलब है कि वह अपने राष्ट्रीय बोर्ड से जितना कमाते हैं यह उसका डबल है. इसके अलावा साउथ अफ्रीका क्रिकेट पहले से ही अपने आंतरिक प्रशासनिक मामलों में भी जूझ रहा है.’

साउथ अफ्रीकी टीम के कई अहम खिलाड़ी पाकिस्तान के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज के पहले दो मैचों में ही खेले थे. इसके बाद वे आईपीएल के लिए भारत रवाना हो गए. इन खिलाड़ियों में क्विंटन डि कॉक, डेविड मिलर, लुंगी एंगिडी, एनरिच नोर्त्जे, कगिसो रबाडा जैसे खिलाड़ी वनडे और टी20 सीरीज छोड़कर आईपीएल में चले गए.

बता दें पहले इस लीग में पाकिस्तानी क्रिकेटर भी खेल चुके हैं. लेकिन दोनों देशों के तनावपूर्ण रिश्तों के कारण इस पड़ोसी देश के खिलाड़ियों के खेलने पर रोक लगा दी है.