फखर जमान © Getty Images
फखर जमान © Getty Images

फखर जमान के शतक की बदौलत पाकिस्तान टीम ने भारत को फाइनल मैच में 180 रनों से हराकर पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी पर कब्जा किया। हालांकि मैच से एक रात पहले तक जमान का फाइनल खेलना तय नहीं था, फखर ने ईएसपीएन क्रिकइंफो वेबसाइट से बात करते हुए कहा कि उन्होंने मैच से पहले पाकिस्तान टीम के फीजियो से कहा था कि वह मैच खेलने के लिए पूरी तरह से फिट नहीं हैं। फाइनल मैच से पहले अभ्यास से दौरान जमान को मांसपेशियों में खिंचाव महसूस हुआ था, जिसके बाद वह होटल रूम में लौट गए। अगर जमान भारत के खिलाफ मैच में नहीं खेलते तो शायद नतीजा कुछ और ही होता।

फखर जमान ने बताया, “हम जब अभ्यास के लिए आए तो मुझे ठीक महसूस नहीं हो रहा था। मैने 5-10 गेंदे खेली और फिर मैने कोच को कहा कि मैं अब और अभ्यास नहीं कर सकता क्योंकि मेरी तबियत ठीक नहीं है। मैं वापस होटल रूम चला गया और फीजियो को भी इस बारे में बता दिया। हमारे फीजियो शेन हाएस रातभर मेरे साथ ही रहे। मैंने उनसे कहा कि मैं कल नहीं खेल पाऊंगा लेकिन उन्होंने मुझे प्रोटीन और ग्लूकोस टेबलेट दी और कहा कि तुम कल खेलोगे। मैने सुबह सात बजे उन्हें मैसेज कर शुक्रिया कहा।” जमान मैच से पहले काफी नर्वस थे क्योंकि यह उनका पहला बड़ा टूर्नामेंट था। [ये भी पढ़ें: पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल मुकाबले में विराट कोहली ने लिया था गलत फैसला?]

जमान इस मैच में केवल 3 बनाकर जसप्रीत बुमराह की गेंद पर महेंद्र सिंह धोनी के हाथों कैच आउट हो जाते लेकिन अंपायर ने गेंद को नो बॉल करार दिया। जमान को जीवनदान मिला जिसका उन्होंने फायदा उठाया।