1983 विश्व कप में जिंबाब्वे के खिलाफ मैच में किरमानी ने कपिल देव के साथ मैच जिताउ साझेदारी निभाई थी © Getty Images
1983 विश्व कप में जिंबाब्वे के खिलाफ मैच में सैयद किरमानी ने कपिल देव के साथ मैच जिताउ साझेदारी निभाई थी © Getty Images

भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज और 1983 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य सैयद किरमानी को भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान के कारण सीके नायडु लाइफ टाइम अचीवमेंट के लिए चुन लिया गया है। बीसीसीआई ने एक विज्ञप्ति जारी कर इस बात की जानकारी दी। बीसीसीआई की विज्ञप्ति के अनुसार पुरस्कार समिति के मुंबई स्थित बीसीसीआई मुख्यालय में बैठक हुई, जिसमें किरमानी को साल 2015 के लिए सर्वसम्मति से इस अवॉर्ड के लिए चुना गया। इस बैठक में बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर, सचिव अनुराग ठाकुर और द हिन्दू समूह के पूर्व प्रधान संपादक एन राम ने हिस्सा लिया। बीसीसीआई 1994 से भारतीय क्रिकेट में उल्लेखनीय योगदान के लिए किसी एक व्यक्ति को सीके नायडु लाइफ टाइम अचीवमेंट के लिये चुनती है। इस अवॉर्ड के तहत नामित व्यक्ति को 25 लाख रूपये और ट्रॉफी दी जाती है। ALSO READ: साल 2015 का अनकहा सितारा: केन विलियसन

1976 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने करियर की शुरूआत करने वाले सैयद किरमानी भारत के सर्वश्रेष्ठ विकेट कीपर बल्लेबाजों में एक रहे हैं। अपने 88 मैचों के टेस्ट करियर में किरमानी ने 160 कैच और 38 स्टम्पिंग के अलावा 2759 रन भी बनाए। जिसमें दो शतक और 18 अर्धशतक भी शामिल है। 49 वनडे मैचों में किरमानी ने 27 कैच और 9 स्टम्पिंग के अलावा 373 रन भी बनाए। 1983 विश्व कप जिंबाब्वे के खिलाफ किरमानी ने कपिल देव के साथ मिलकर टीम को मुश्किल परिस्थिति से बाहर निकालने में मुख्य भूमिका निभाई थी। सैयद किरमानी कर्नाटक राज्य क्रिकेट के संघ के उपाध्यक्ष और राष्ट्रीय चयन समिति के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। ALSO READ: धोनी की बेटी के साथ सुशांत ने शेयर की तस्वीरें

कर्नल सीके नायडू की याद में दिया जाने वाले इस अवॉर्ड के लिये बीसीसीआई ने सैयद किरमानी को चुना है। साल 2014 में ये अवॉर्ड दिलीप वेंगसरकर को दिया गया था। ALSO READ: टेस्ट क्रिकेट के 5 सबसे बड़े स्कोर