ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज में टीम इंडिया अपने छठे बॉलर की कमी से जूझ रही है. टीम के पास हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) मौजूद हैं लेकिन वह फिलहाल बॉलिंग से योगदान के लिए फिट नहीं हैं. हार्दिक के अलावा टीम के पास दूसरे ऑलराउंडर के रूप में रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja) हैं, जो बतौर 5वें बॉलर टीम के प्लेइंग XI में शामिल हैं.

सीरीज के पहले मैच में हार का कारण जब छठे बॉलर की कमी को माना गया, तब हार्दिक पांड्या ने यह साफ कर दिया कि वह अभी बॉलिंग के लिए तैयार नहीं हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट में बॉलिंग करने में अभी उन्हें कुछ समय लगेगा. वह अपने बॉलिंग एक्शन में कुछ सुधार कर रहे हैं, जिससे की उनकी पीठ पर पहले खिंचाव कम पड़े.

पांड्या पीठ की सर्जरी के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी कर रहे हैं. उनका बॉलिंग एक्शन पहले साइड ऑन था, जिसके चलते उनकी पीठ पर अधिक खिंचाव आता था. लेकिन अब वह इस अतिरिक्त खिंचाव से बचने के लिए अपने एक्सन को ओपन चेस्टेड वाला बनाने पर काम कर रहे हैं.

एक्सपर्ट्स के मुताबिक बॉलिंग में यह बहुत मामूली सा बदलाव है. वह अपने हिप्स पर वजन के सही संतुलन पर काम कर रहे हैं. इससे पहले पांड्या जब बॉलिंग करते हुए जंप करते थे, तो उनकी पीठ पर दबाव अधिक बनता था. इसी को दुरुस्त करने के लिए पांड्या अभी बॉलिंग करने से परहेज कर रहे हैं. मैच के बाद उन्होंने बताया था कि वह वर्ल्ड कप जैसे अहम टूर्नामेंट में बॉलिंग करने के लिए तैयार रहेंगे.