ICC CRICKET WORLD CUP 2019: Virat Kohli & Company ready to land knockout punch on England
Team India @BCCI (FILE IMAGE)

भारतीय क्रिकेट टीम रविवार को होने वाले विश्व कप के हाई-प्रोफाइल मुकाबले में मुश्किलों में घिरी मेजबान इंग्लैंड पर शानदार जीत के साथ शीर्ष पर पहुंचने पर निगाह लगाए होगी।

पढ़ें: ‘ऑरेंज कलर बदलाव के लिए अच्छा लेकिन हमारा रंग हमेशा नीला ही रहेगा’

अब तक 6 मुकाबलों में भारतीय टीम को हार का मुंह नहीं देखना पड़ा है और विराट कोहली की टीम 11 अंक के साथ सेमीफाइनल में प्रवेश की ओर है लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ जीत से वह प्‍वाइंटस टेबल में शीर्ष स्थान को मजबूत करेगी। अगर भारत इसमें जीत जाता है तो मेजबान टीम टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगी।

टूर्नामेंट से पहले इंग्लैंड खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही थी लेकिन इयोन मोर्गन की टीम अहम मैचों लड़खड़ा गई जिसके अब 7 मैचों में केवल 8 अंक हैं और वह टूर्नामेंट से बाहर होने की कगार पर है।

यह दुखद है कि कप्तान मोर्गन, जोस बटलर, जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टोक्स, जोफ्रा आर्चर जैसे खिलाड़ियों की मौजूदगी के बावजूद इंग्लैंड की हाल के वर्षों में सर्वश्रेष्ठ वनडे टीम को इस तरह बाहर होना पड़ेगा।

पढ़ें: न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच के लिए स्टार्क-कमिंस को आराम देना चाहते थे फिं

रविवार को बर्मिंघम के एजबेस्टन में भारतीय दर्शकों की मौजूदगी दबाव में घिरी टीम को और परेशान करेगी। वहीं इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन और केविन पीटरसन पर जॉनी बेयरस्टो के बयान से भी दबाव काफी बढ़ गया है।

बेयरस्‍टो बोले- लोग हमारे असफल होने का इंतजार कर रहे थे

बेयरस्टो ने पत्रकारों से कहा, ‘लोग हमारे असफल होने का इंतजार कर रहे थे। वे कई मायनों में हमारी जीत से खुश नहीं हैं। वे इंतजार कर रहे हैं कि हम हार जाएं और वे हमारी आलोचना करें। यह इंग्लैंड में आम है, बल्कि हर खेलों में है।’

भारत के खिलाफ मैच से पहले वॉन को यह टिप्पणी अच्छी नहीं लगी और उन्होंने इंस्टाग्राम पोस्ट में इसे ‘नकारात्मक और दयनीय मानसिकता’ करार दिया।

मेजबान इंग्‍लैंड पर है दबाव

भारत के लिए इंग्लैंड को हराने का यह बेहतर समय है क्योंकि मेजबान टीम काफी दबाव में है। मैच के दौरान धूप खिली होगी और सूखी पिच पर टर्न सामान्य से ज्यादा होगा।

इन परिस्थितियों में दो कलाई के स्पिनरों के साथ जसप्रीत बुमराह का सामना करना इंग्लैंड के लिए मुश्किलें पैदा कर सकता है। इंग्लैंड की टीम हालांकि इस बात से राहत ले सकती है कि उन्होंने घरेलू सरजमीं पर पिछली द्विपक्षीय सीरीज में भारत को 2-1 से हराया था, लेकिन बुमराह उस समय चोटिल थे और उस सीरीज में नहीं खेले थे।

‘विपक्षी टीम के बारे में ज्‍यादा सोचने से अच्‍छा है कि हम अपने प्रदर्शन पर ध्‍यान लगाएं’

तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने हालांकि कहा की भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ ज्यादा रणनीति बनाने में नहीं लगी।

दो मैचों में 8 विकेट लेने वाले शमी ने कहा, ‘प्रतिद्वंद्वी टीम के बारे में सोचने के बजाय बेहतर यही है कि हम अपने प्रदर्शन पर ध्यान लगाएं। यदि हम अच्छा करते हैं तो हमें प्रतिद्वंद्वी के बारे में भी सोचने की जरूरत नहीं होगी।’

भारतीय टीम के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि उन्होंने अभी तक अपना सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट नहीं खेला है, फिर भी वह आसानी से जीत हासिल कर रही है।

मध्यक्रम बल्लेबाजी अब भी चिंता का विषय है और चौथे नंबर पर विजय शंकर का प्रदर्शन निश्चित रूप से उन्हें कमजोर कड़ी बनाता है। टीम प्रबंधन ने अब तक रिषभ पंत को मैदान में उतारने का संकेत नहीं दिया है।

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा था, ‘उन्होंने शंकर जैसे युवा खिलाड़ी पर भरोसा दिखाया है। टीम प्रबंधन को लगता है कि वह टीम की योजनाओं के लिए महत्वपूर्ण है, इसलिए इसमें कोई बुराई नहीं है। टीम अच्छी तरह जीत रही है इसलिए उन्हें इसी विजयी संयोजन के साथ जारी रहना चाहिए।’

युवा गांगुली ने इसी मैदान पर 1999 के विश्व कप में इस मैदान पर ऑलराउंड प्रदर्शन से इंग्लैंड को हराया था। लेकिन इंग्लैंड के ताबूत में अंतिम कील लगाने वाले खिलाड़ियों में रोहित शर्मा, कोहली या फिर हार्दिक पांड्या शामिल हो सकते हैं।

संभावित टीमें

भारत :

विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, विजय शंकर, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, रिषभ पंत, दिनेश कार्तिक, भुवनेश्वर कुमार, रवींद्र जडेजा।

इंग्लैंड :

इयोन मोर्गन (कप्तान), जेम्स विंस, जॉनी बेयरस्टो (विकेटकीपर), जो रूट, बेन स्टोक्स, जोस बटलर, मोइन अली, आदिल राशिद, मार्क वुड, क्रिस वोक्स, जोफ्रा आर्चर, जेसन राय, लियाम प्लंकेट, टॉम कर्रन और लियाम डॉसन।