ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीमित ओवर फॉर्मेट सीरीज में कई मैचविनिंग पारियां खेलने के बाद हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) को 17 दिसंबर से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के लिए उन्हें भारतीय टेस्ट स्क्वाड में शामिल किए जाने पर चर्चा की जा रही है। इस मामले पर पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) का कहना है कि अगर पांड्या गेंदबाजी शुरू कर देते हैं तो वो टेस्ट टीम का अहम हिस्सा बन सकते हैं।

दरअसल पांड्या ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली छह मैचों की सीमित ओर फॉर्मेट सीरीज के एक वनडे मैच में ही गेंदबाजी की थी। बैक इंजरी की वजह से पांड्या साल 2018 के इंग्लैंड दौरे के बाद से टेस्ट टीम से बाहर हैं।

सोनी स्पोर्ट्स नेटवर्क के कार्यक्रम में सहवाग ने कहा, “अगर वो गेंदबाजी कर रहा होता वो टेस्ट टीम का हिस्सा होता। मुमकिन है कि हार्दिक पांड्या ने चयनकर्ताओं से उन्हें टेस्ट मैचों के लिए उनके नाम पर विचार ना करें क्योंकि वो गेंदबाजी के लिए फिट नहीं है और वो वनडे, टी20 ही खेलेंगे और फिर वो अपने परिवार के पास लौट जाएंगे।”

पूर्व दिग्गज ने कहा, “लेकिन इस बात में कोई शक नहीं है कि जब वो गेंदबाजी करना शुरू करेगा तो वो टेस्ट टीम का अहम हिस्सा होगा। क्योंकि वो वनडे और टी20 में जिस तरह से बल्लेबाजी करता है, कल्पना करें कि वो टेस्ट क्रिकेट में भी 6 या 7 नंबर पर खेलते हुए उसी तरह से रन बनाना शुरू कर दे, तो भारत उस मैच को जीतने के लिए अच्छी स्थिति में होगा।”

अपने करियर के दौरान टेस्ट क्रिकेट में भी सीमित ओवर फॉर्मेट की स्ट्राइक रेट से रन बनाने के लिए मशहूर रहे सहवाग ने आगे कहा, “टेस्ट क्रिकेट में भी तेजी से रन बनाने की काफी अहमियत होती है क्योंकि ऐसा करने से आप अपने गेंदबाजों को दूसरी टीम को ऑलआउट करने के लिए ज्यादा समय भी देते हैं।”