Imran Khan convinced me to continue playing: Sunil Gavaskar
Sunil Gavaskar (Getty Images)

हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने इमरान खान ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर को संन्यास लेने से रोका था। गावस्कर ने टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखे एक कॉलम में इस बात का खुलासा किया। सुनील गावस्कर ने 1986 के इंग्लैंड दौरे के बाद संन्यास लेने का मन बना लिया था लेकिन इमरान ने उन्हें एक नई चुनौती देकर क्रिकेट खेलने के लिए राजी कर लिया।

गावस्कर के मुताबिक इमरान ने उनसे कहा, “तुम अभी संन्यास नहीं ले सकते। पाकिस्तान अगले साल भारत आ रहा है और मैं भारत को भारत में हराना चाहता हूं। अगर तुम टीम का हिस्सा नहीं होंगे तो बात अलग हो जाएगी। चलो, एक दूसरे के खिलाफ एक और चुनौती का सामना करते हैं।” गावस्कर ने इमरान की बात मानकर संन्यास का ख्याल छोड़ दिया और इमरान ने भी टीम इंडिया को टेस्ट सीरीज हराकर अपनी चुनौती पूरी की।

1986 में पाकिस्तान के भारत दौरे पर खेले गई पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के चार मैच ड्रॉ रहे थे और पाक टीम ने आखिरी मैच जीतकर सीरीज 1-0 से अपने नाम की थी।

उन्होंने आग लिखा, “हम एक दूसरे को 1971 से जानते हैं, जब वो वारसेस्टरशायर की काउंटी टीम के लिए क्वालिफाई करने की कोशिश कर रहा था। वो एक पतला दुबला सा लड़का था, तेज इनस्विंगर करने वाला मीडियम पेसर लेकिन उसके पास नियंत्रण बिल्कुल नहीं था। सात साल बाद जब हमने टेस्ट मैच खेला, वो काफी मजबूत हो गया था। इनस्विंगर अब भी उसकी खास गेंद थी लेकिन उसके पास एक और गेंद थी जो सीधी आती थी और इनस्विंगर खेलने की कोशिश में बल्लेबाज विकेट के पीछे कैच आउट हो जाता था।”

गावस्कर ने नव निर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान को बधाई दी। गावस्कर ने आखिरी में लिखा, “आपको ढेर सारी शुभकामनाएं और भगवान आपके साथ रहे इमी।”